दीपावली से पहले खरीदी का महामुहूर्त दो दिन रहेगा पुष्य नक्षत्र, कर सकेंगे शुभ मुहूर्त में खरीदी

इंदौर, दीपोत्सव (दीवाली) पर 21 अक्टूबर को शाम 5.35 से पुष्य नक्षत्र का आरंभ होगा, जो 22 अक्टूबर को भी शाम 4.45 बजे तक रहेगा। ये दोनों दिन शुभ मुहूर्त के चलते खरीददारी के लिए श्रेष्ठ माने जा रहे हैं। कई वर्षों बाद दीपावली से पहले खरीदी का महामुहूर्त पुष्य दो दिन रहेगा। खास बात […]

Share

सुहागिनें पति की लंबी आयु की कामना के लिए रखती हैं करवा चौथ व्रत,जानिये नियम, पूजा विधि

नई दिल्ली,हिंदू सनातन पद्धति में करवा चौथ सुहागिनों का महत्वपूर्ण त्योहार माना गया है। ये व्रत सुहागिन औरतें अपने पति की लंबी आयु की कामना के लिए रखती हैं। इस पर्व पर महिलाएं हाथों में मेहंदी रचाकर व सोलह श्रृंगार कर अपने पति की पूजा कर व्रत का पारायण करती हैं। करवा चौथ व्रत गुरुवार […]

Share

शरद पूर्णिमा का है विशेष महत्व, इस रात चंद्रमा अपनी सभी सोलह कलाओं का प्रदर्शन करते दिखाई देते हैं

नई दिल्ली,हिंदू शास्त्र के अनुसार सभी पूर्णिमाओं में आश्विन मास की पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है। इस पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं। इस बार 13 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा है। ऐसी मान्यता है कि इस रात को चंद्रमा अपनी पूरी सोलह कलाओं के प्रदर्शन करते हुए दिखाई देता है। शरद पूर्णिमा को कोजागरी […]

Share

शारदीय नवरात्रि के दसवें दिन मनाई जाती है विजयादशमी, की जाती है शस्त्रों की पूजा

नई दिल्ली,शारदीय नवरात्रि के दशवें दिन यानी आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को दशहरे का पर्व मनाया मनाया जाता है। इस बार दशहरा या विजयादशमी का पर्व मंगलवार 08 अक्टूबर को मनाया जाएगा। पौराणिक कथाओं के अनुसार, दशहरे के दिन ही भगवान राम ने लंका नरेश रावण का वध किया था। इस दिन […]

Share

नवरात्रि में फलाहार के साथ कूटू या सिंघाड़े के आटे के खाये जाने के पीछे हैं धार्मिक तथा वैज्ञानिक आधार

नई दिल्ली,नवरात्रि में देवी की उपासना के साथ ही नौ दिनों के उपवास होते हैं इन दिनों फलाहार ही होता है। इन दिनों घर में सादे नमक की जगह सेंधा नमक और गेहूं के आटे की जगह बल्कि सिर्फ कूटू का आटा या सिंघाड़े का आटा खाया जाता है। इसके पीछे धार्मिक के साथ ही […]

Share

अश्विन माह में पितरों ओर देवी दोनों की ही कृपा पाई जा सकती है, जानिये उसका महत्व

नई दिल्ली,सनातन मान्यता के अनुसार वर्ष का सातवां महीना अश्विन माह होता है। यह महीना देव और पितृ दोनों के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। इस महीने से सूर्य धीरे-धीरे कमजोर होने लगते हैं। शनि और तमस का प्रभाव बढ़ता जाता है। इस महीने में भी शुभ कार्य करने की मनाही होती है। इस बार […]

Share

सर्वपितृ अमावस्या होती है खास, किया जाता है पितरों की आत्मा की शांति के लिये स्नान, दान, तर्पण

नई दिल्ली,आश्विन मास वर्ष के सभी 12 मासों में खास माना जाता है। इस मास की अमावस्या तिथि तो और भी महत्वपूर्ण मानी जाती है। इसकी सबसे बड़ी वजह है पितृ पक्ष में इस अमावस्या का होना। इस साल पितृपक्ष अमावस्या 28 सितंबर को शनिवार के दिन है। सर्वपितृ अमावस्या के दिन ही शनि अमावस्या […]

Share

गज पर सवार होकर आएगी माता ‘शक्ति’,नवरात्रि की शुरुआत 29 सितंबर से होगी

भोपाल, नवरात्रि पर्व की शुरुआत 29 सितंबर रविवार से होने जा रही है। गज (हाथी) पर सवार होकर शक्ति का आगमन वाहन समृद्धि और बारिश का संकेत देने वाला होगा। मां शक्ति की स्थापना के अवसर पर इस बार कई दुर्लभ संयोग भी बनेंगे। इस दिन ब्रह्मयोग के साथ मंगलकारी अमृत व सर्वार्थ सिद्धि योग […]

Share

बद्रीनाथ के पास ब्रह्माकपाल में श्राद्ध से पितरों को मिलती है मुक्ति, यहाँ शिवजी को मिली थी ब्रम्ह हत्या के पाप से मुक्ति

नई दिल्ली,पिंडदान के लिए एक तीर्थ ऐसा भी है जहाँ पर किया पिंडदान गया से भी आठ गुणा फलदायी है, यही नहीं इसी तीर्थ स्थल पर भगवा‌न शिव को भी ब्रह्महत्या के पाप से मुक्ति मिली थी।चारों धामों में प्रमुख बदरीनाथ के पास स्थित ब्रह्माकपाल के बारे में मान्यता है कि यहाँ पर पिंडदान करने […]

Share

पितरों के इन 16 दिनों में क्यों जरुरी है पिंडदान जानिये

नई दिल्ली, सनातन धर्म में 16 दिन पूर्वजों के लिए माने जाते हैं। मान्यता है कि अगर पितरों की आत्मा को मोक्ष नहीं मिला है, तो उनकी आत्मा भटकती रहती है। इससे उनकी संतानों के जीवन में भी कई बाधाएं आती हैं, इसलिए पितरों का पिंडदान जरूरी माना गया है। हिंदू धर्म में पितृपक्ष के […]

Share