भगवान कृष्ण की पूजा का फाल्गुन में है खास महत्त्व,उनके तीनों स्वरुपों की इस माह होती है पूजा

नई दिल्ली,हिन्दू पंचांग का अंतिम महीना फाल्गुन मास का होता है। इस महीने की पूर्णिमा को फाल्गुनी नक्षत्र के रूप में देखा जाता है। इसलिए इस महीने का नाम फाल्गुन मास रखा गया है। फाल्गुन मास में भगवान कृष्ण की विशेष पूजा की जाती है। इस महीने उनकों पीले फूल अर्पण करने से निसंतानों को […]

Share

जानिये क्यों चढ़ाए जाते हैं नारियल और नींबू और इनसे कैसे प्रभावित होती है जीवन ऊर्जा

नई दिल्ली,आदिकाल से ही दुनिया के लगभग सभी धर्मों में बलि देने की प्रथा मौजूद रही है हालांकि ईश्वर भाव का भूखा होता हैं। आज तक किसी ने भगवान को कभी किसी वस्तु का उपभोग करते हुए नहीं देखा है। भारत में भी कई जगहों पर देवी देवताओं को जानवरों की बलि दी जाती रही […]

Share

महाशिवरात्रि पर भक्तों की पूरी होती हैं सभी मनोकामनाएं, ऐसे होंगे शिव प्रसन्न

नई दिल्ली,महाशिवरात्रि हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है। महाशिवरात्रि के पर्व पर भगवान शिव की आराधना का काफी महत्व है। मान्यता है कि महाशिवरात्रि के पर्व पर भोले बाबा की आराधना करने से मां पार्वती और भोले त्रिपुरारी अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। महाशिवरात्रि के दिन शिव मंदिरों में […]

Share

ज्ञान की देवी मां सरस्वती की पूजा का पर्व ‘बसंत पंचमी’आज

बसंत पंचमी 30 जनवरी पर विशेष- (योगेश कुमार गोयल द्वारा) माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी ‘बसंत पंचमी’ के रूप में देशभर में धूमधाम से मनाई जाती रही है क्योंकि माना जाता है कि यह दिन बसंत ऋतु के आगमन का सूचक है और इसी दिन से बसंत ऋतु का आगमन होता है। मान्यता […]

Share

मौनी अमावस्या का पर्व है कल, इस पर स्नान और पूजापाठ का है विशेष महत्व

नई दिल्ली, माघ मास की अमावस्या तिथि शुक्रवार 24 जनवरी को सुबह 02 बजकर 17 मिनट पर प्रारंभ हो रही है, जो अगले दिन शनिवार सुबह 03 बजकर 11 मिनट तक है। सनातन धर्म के अनुसार, माघ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मौनी अमावस्या या माघी अमावस्या कहा जाता है। माघ की अमावस्या […]

Share

गंगा का सागर में मिलन स्थल है गंगासागर

( रमेश सर्राफ धमोरा द्वारा) (मकर संक्रान्ति पर विशेष) भारत में गंगा नदी को सबसे पवित्र नदी माना गया है। गंगा नदी गंगोत्री से निकल कर पश्चिम बंगाल में सागर से मिलती है। गंगा का जहां सागर से मिलन होता है उस स्थान को ही गंगासागर कहा जाता है। इस स्थान को सागरद्वीप के नाम […]

Share

भारत में नव वर्ष मनाने की रहीं हैं दिलचस्प परम्पराएं

योगेश कुमार गोयल द्वारा (नव वर्ष पर विशेष) देश में जिस प्रकार दीवाली, होली, दशहरा, ईद, क्रिसमस, गुरूपर्व इत्यादि अनेक त्यौहार बड़ी धूमधाम, उत्साह और हर्षोल्लास के साथ मनाए जाते हैं, बिल्कुल वैसा ही उत्साह लोगों में नववर्ष के अवसर पर भी देखा जाता है। नव वर्ष के प्रथम दिन लोग एक-दूसरे को नव वर्ष […]

Share

दांपत्य जीवन पर अधिकांशतः ग्रहों का भी पड़ता है प्रभाव

नई दिल्ली,सनातन धर्म में विवाह एक अति महत्वपूर्ण संस्कार है। वही सुखद और प्रेमपूर्ण दांपत्य का आधार है लेकिन प्रारब्ध कर्मानुसार व्यक्ति की जन्मपत्रिका में कुछ ऐसी ग्रह स्थितियां निर्मित हो जाती हैं जिसके फलस्वरूप उसे दांपत्य सुख नहीं मिलता है। कलहपूर्ण दांपत्य अंत्यत कष्टप्रद और नारकीय जीवन के समान होता है। वैसे भी हर […]

Share

जानिये आदिकाल से ही क्यों चढ़ाए जाते हैं नारियल और नींबू

नई दिल्ली, आदिकाल से ही दुनिया के लगभग सभी धर्मों में बलि देने की प्रथा मौजूद रही है हालांकि ईश्वर भाव का भूखा होता हैं। आजतक किसी ने भगवान को कभी किसी वस्तु का उपभोग करते हुए नहीं देखा है। भारत में भी कई जगहों पर देवी देवताओं को जानवरों की बलि दी जाती रही […]

Share

हर व्यक्ति के होते हैं एक इष्ट देव या देवी, कुल देवी या देवता भी हो सकते हैं इष्ट

नई दिल्ली,सभी देवी–देवताओं की पूजा–उपासना करने के बाद भी अक्सर इंसान का मन भटकता ही रहता है। हर इंसान का मन किसी एक देवी या देवता की ओर सबसे ज्यादा आकर्षित होता है और वही देवी या देवता आपके इष्ट देव हो सकते हैं। अगर आपकी कोई कुल देवी या देवता हैं तो वो भी […]

Share