मप्र में बारिश से हाहाकार, छिंदवाड़ा का हर्रई बना टापू,मंडला, बालाघाट, सिवनी में आफत, भोपाल-रायसेन में कल स्कूलों की छुट्टी

भोपाल, आधा सितंबर बीतने को आया है, लेकिन प्रदेश में मानसूनी बारिश ने लोगों को पानी-पानी कर दिया है। 1 जून से शुरू हुए मानूसनी सीजन के बाद से प्रदेश के सभी जिलों में सामान्य बारिश का आंकड़ा पार हो चुका है। पिछले दो दिनों से पूरे प्रदेश में बारिश हो रही है। कुछ जिलों में अतिवृष्टि से बस्तियां जलमग्न हो गई हैं। हाहाकार मच गया है। कुछ जगहों पर जनहानि की भी खबरें हैं। मंडला में सर्वाधिक 183 मिली मीटर बारिश हुई। मंडला, बालाघाट, सिवनी में आफत की बारिश हुई। राजधानी भोपाल में चार दिन से जारी बारिश के चलते निचली बस्तियों में पानी घुस गया है। भारी बारिश से पंचशील नगर और नया बसेरा बस्ती में पानी भर गया है। भारी बारिश के चलते भदभदा डैम के तीन और कलियासोत के पांच गेट खोले गए हैं। कलियासोत के गेट खुलने के चलते कोलार के दामखेड़ा बी-सेक्टर में झुग्गियों में पानी भर गया। जैसा कि पता है प्रदेश में 14 अक्टूबर तक बारिश होती है। 1 सितंबर से मानसून का विचलन होना था, लेकिन अब भी बारिश जारी है। आगामी दो-तीन दिन पूरे प्रदेश में भारी बारिश हो सकती है। इधर,मध्यप्रदेश में मूसलाधार बारिश के बाद राजधानी भोपाल सहित अनेक जिलों में सोमवार को स्कूलों में अवकाश की घोषणा कर दी गई है। भोपाल में जिला कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने भारी बारिश के चलते सोमवार को बारहवीं तक के समस्त स्कूलों में अवकाश की घोषणा की है। कलेक्टर के निर्देश के बाद जिला शिक्षा अधिकारी ने तत्सम्बन्धी आदेश जारी किया है। उधर रायसेन में जिले में जारी अनवरत वर्षा एवं जलभराव से निर्मित स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए रायसेन जिला कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने जिले के समस्त शासकीय अशासकीय स्कूलों एवं अनुदान प्राप्त संस्थाओं के लिए सोमवार का अवकाश घोषित किया है। कई अन्य जिलों में भी भारी बारिश के बाद स्कूली अवकाश घोषित कर दिया गया है। इधर,मण्डला में कलेक्टर डॉ. जगदीश चन्द्र जटिया ने जिले भर में बाढ़ स्थिति के मददेनजर सभी स्कूलों में अवकाश घोषित करने के आदेश जारी कर दिये हैं। उन्होंने बताया कि सभी स्कूलों में 9 सितम्बर को एक दिवसीय अवकाश रहेगा।
जबलपुर संभाग में सर्वाधिक बारिश
जबलपुर में बरगी बांध के खुले सभी 21 गेट खोलने से नर्मदा नदी उफान पर है। नर्मदा के निकटवर्ती नरसिंहपुर, होशंबाद सहित सभी जिलों में चेतावनी जारी की गई है। 5 साल बाद ऐसा हुआ है कि बरगी बांध के सभी गेट खोले गए हैं। छिंदवाड़ा में अमरवाड़ा विधानसभा के विकासखंड हर्रई की बस्ती जलमग्न की स्थिति में पहुंच गई। सिवनी जिले में वैनगंगा नदी में बने संजय सरोवर डैम के सभी 6 गेट खोलने से बालाघाट भंडारा क्षेत्र में चेतावनी जारी की गई है। केवलारी ब्लाक के बोथिया और ग्वारी गांव में पानी घुसने से लोगों में दहशत का माहौल बना है। ग्वारी जलमग्न हो गया। चारों ओर से नदी-नालों के उफान के कारण प्रशासन भी यहां नहीं पहुंच पा रहा। रायसेन जिले में भारी बारिश के चलते बारना डेम के 2 गेट खोले गए हैं। यहां पगनेश्वर बेतवा नदी उफान पर है। वहीं, गुना जिले के राघोगढ़ में पानी में बहने से 10 वर्षीय बच्चे की मौत हो गई। नीमच जिले के रामपुरा में भारी बारिश से हालात बिगड़ गए हैं। यहां नहाते समय पानी में डूबने से 20 वर्षीय युवक की मौत हो गई।
यहां मूसलाधार की चेतावनी
विदिशा, रायसेन, सीहोर, भोपाल, राजगढ़, होशंगाबाद, रायसेन, सीहोर, बैतूल, हरदा, बुरहानपुर, खंडवा, खरगौन, बड़वानी, देवास, शाजापुर, अलीराजपुर, अशोकनगर, श्योपुरकला, रीवा, सतना, अनूपपुर, डिंडौरी, जबलपुर, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट, पन्ना, दमोह, सागर, छतरपुर, टीकमगढ़, गुना।
मानसून मीटर
शहर बारिश
बालाघाट 151
नरसिंहपुर 108
सिवनी 94
मुरैना 82
जबलपुर 48
(24 घंटे के दौरान, मिमी में)

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *