झारखण्ड में राजद को फिर झटका, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गिरिनाथ सिंह भाजपा में शामिल

रांची,झारखंड में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को लोकसभा चुनाव के पहले एक के बाद एक तगड़ा झटका लग रहा है। राजद के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गिरिनाथ सिंह गुरुवार को नई दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में आयोजित में भाजपा में शामिल हो गये। गिरिनाथ सिंह ने रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण और भाजपा के वरिष्ठ नेता संजय मयूख की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ली। इससे पहले 25 मार्च को राजद की प्रदेश अध्यक्ष और कोडरमा विधानसभा क्षेत्र से चार बार चुनाव जीतीं अन्नपूर्णा देवी और चतरा से पूर्व विधायक जनार्दन पासवान भाजपा में शामिल हुए थे। अन्नपूर्णा देवी, गिरिनाथ सिंह और जनार्दन पासवान जैसे प्रदेश राजद के कद्दावर नेताओं का भाजपा में जाना झारखंड में पार्टी के लिए के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। ये तीनों नेता कोडरमा, पलामू और चतरा में काफी प्रभावी रहे हैं।
गढ़वा ही नहीं प्रदेश के कद्दवार राजनेता गिरिनाथ सिंह गढ़वा विधान सभा क्षेत्र से 17 सालों से लगातार विधायक और दो-दो बार मंत्री रहे हैं। यही कारण है कि उन्हें झारखंड में राजद के प्रदेश अध्यक्ष पद पर भी आसीन किया गया। गिरिनाथ सिंह की राजनीति में इंट्री 1993 में उस वक्त हुई, जब उनके विधायक पिता गोपीनाथ सिंह की मृत्यु हो गयी। 1993 के उपचुनाव में जनता दल की टिकट पर चुनाव लड़े और पहली बार विधायक बने। अपने पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए उन्होंने 1995 के विधानसभा चुनाव में फिर से जनता दल से चुनाव लड़ा। भाजपा प्रत्याशी श्याम नारायण दूबे को हराकर वो दोबारा विधायक बने।1997 में इन्हें पीएचईडी मंत्री बनाया गया. साल 2000 के विधानसभा चुनाव के पहले ही जनता दल दो भागों में टूटकर राजद और जदयू के रूप में खण्डित हो गया, वे राजद में रहे। साल 2000 के विधानसभा चुनाव में झारखंड राज्य आस्तित्व में आया। गिरिनाथ सिंह ने राजद की टिकट पर चुनाव लड़कर झारखंड की पहले विधानसभा का सदस्य बनने का गौरव हासिल किया।इसके बाद वो 2005 के विधानसभा चुनाव में राजद से विधायक चुने गए। इस चुनाव के बाद शिबू सोरेन की अल्पकालीन सरकार में संसदीय कार्य मंत्री बनाए गए। साल 2009 और 2014 के विधानसभा चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। इस दौरान झारखंड और राजद में गुटबाजी हावी हो गई। इस वजह से गिरिनाथ सिंह को झारखंड प्रदेश के राजद अध्यक्ष पद से भी हटना पड़ा।तब से गिरिनाथ सिंह की राजद से दूरी बनने लगी। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी की चमक और महागठबंधन के बिगड़े समीकरण से गिरिनाथ सिंह सरीखे कदावर नेता को भी विकल्प ढूंढने के लिए विवश होना पड़ा। गिरिनाथ सिंह ने राजनीतिक ज्ञान जनसंघ की संस्कृति से हासिल किया। गिरिनाथ सिंह के पिता गोपीनाथ सिंह जनसंघ के संस्थापक सदस्यों में से एक रहे। वो 1962 और 1969 में जनसंघ की टिकट पर जीतकर विधायक बने। साल 1980 में भाजपा के गठन के बाद 1985 और 1990 में भाजपा की टिकट पर विधायक बने। उस वक्त गिरिनाथ सिंह अपने विधायक पिता गोपीनाथ सिंह के सहयोगी के रूप में काम देखते थे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *