MP में खोले जा रहे आर्मी प्री-पेरेटरी स्कूल

 

भोपाल, प्रदेश स्तर पर ‘आर्मी प्री-पेरेटरी स्कूल खोले जा रहे हैं जिसमें रिटायर आर्मी ऑफिसर्स की मदद से सरकारी स्कूलों के छात्र-छात्राओं को सेना के लिए तैयार किया जाएगा। उन्हें परेड व रायफल चलाना सिखाया जाएगा। ट्रेनिंग के बाद वे सेना में जाएंगे या नहीं, ये उनकानिर्णय होगा।इस आशय का प्रस्ताव स्कूल शिक्षा विभाग कैबिनेट को भेज रहा है। उच्च शिक्षा विभाग भी कॉलेज स्तर पर इसके लिए विशेष कक्षाएं चलाएगा। प्रदेश के युवा सेना में रुचि नहीं दिखा रहे हैं। इस पर सेना ने न सिर्फ चिंता व्यक्त की है, बल्कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से इस दिशा में विचार करने को कहा था।
मुख्यमंत्री चौहान ने १४ अक्टूबर २०१६ को ‘आर्मी प्री-पेरेटरी स्कूल खोलने की घोषणा की। १० करोड़ रुपए की लागत से खुलने वाले इस स्कूल में १०० सीट रहेंगी, लेकिन शुरुआत में ५० छात्रों को सेना के लिए ट्रेंड किया जाएगा। ताकि उनका राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) में चयन हो सके। इन विद्यार्थियों को सुपर-१०० की तर्ज पर राजधानी या इंदौर में ट्रेनिंग दिलाई जाएगी। साथ ही इन्हें उत्कृष्ट विद्यालय में पढ़ाया जाएगा। विद्यार्थियों को पढ़ाने और ट्रेनिंग कराने पर हर साल १८ करोड़ रुपए का खर्च आएगा।इस स्कूल में विद्यार्थियों को चयन प्रक्रिया के माध्यम से दाखिला मिलेगा। स्कूल शिक्षा विभाग परीक्षा कराएगा। इसमें शारीरिक क्षमताओं का भी ध्यान रखा जाएगा। वहीं उच्च शिक्षा विभाग बुद्धिमत्ता की लिखित परीक्षा और साक्षात्कार से छात्रों का चयन करेगा। पहले दो साल छात्रों की शारीरिक एवं शैक्षणिक दक्षता बढ़ाने के प्रयास किए जाएंगे। तीसरे साल प्रभावी प्रशिक्षण होगा। चयनित प्रतिभागियों को अकादमिक, आउट डोर प्रशिक्षण के साथ एनडीए की लिखित परीक्षा और एसएसबी के लिए ट्रेंड किया जाएगा। उनमें नेतृत्व और वाद-संवाद क्षमता का विकास भी किया जाएगा। फैकल्टी न मिलने पर अतिथि विद्वान रखे जाएंगे। वहीं ट्रेनिंग के दौरान सेवानिवृत्त अधिकारियों के लेक्चर कराए जाएंगे। इस संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव दीप्ति गौड़ मुकर्जी का कहना है कि अभी प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया जा रहा है। जल्द ही कैबिनेट को भेजा जाएगा।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *