कुख्यात जीवा ने कई अहम राज उगले

हरिद्वार, हौजरी व्यापारी की हत्या के मामले में बी वांरट पर मैनपुरी जेल से लाये गये कुख्यात संजीव उर्फ जीवा ने पुलिस को पूछताछ को अहम जानकारी दी है। कुख्यात ने बताया कि वह केवल शूटर मुजाहिद को ही जानता था लेकिन उसके साथ आये बदमाश की नहीं जानता। उसकी को उसने सुभाष सैनी की हत्या के लिए भेजा था। जीवा ने दो युवकों के नामों का भी खुलासा किया हैं जोकि पूर्व में हरकी पैड़ी पर ब्याज का कारोबार करते थे। जो हरिद्वार छोड़कर रूड़की चले गये थे। जोकि इन दिनों मुजफ्फरनगर में है। उन्हीं के सम्पर्क में मुजाहिद व पप्पू के होने की जानकारी दी है। पुलिस संजीव की निशानदेही पर उनको दबोच सकती है। बताते चलें की कोतवाली नगर पुलिस को कुख्यात संजीव जीवा की दो दिन की मिली रिमांड के दौरान की गयी पूछताछ के दौरान कई राज का खुलासा किया गया। पुलिस द्वारा पूछताछ के दौरान तैयार की गयी लिस्ट के आधार पर कुख्यात पुलिस को पूरा सहयोग कर रहा है। जिन सवालों को जबाव पुलिस चाहती हैं उसका जबाव जीवा पुलिस को दे रहा है। पहले दिन कुख्यात संजीव जीवा से एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने पूछताछ की थी। जिनका संतोषजनक जबाव जीवा ने दिया था। पूछताछ के दौरान कई अहम जानकारी पुलिस को दी थी। हौजरी व्यापारी अमित शर्मा उर्फ गोल्डी की हत्या शूटरों की चूक बताया है। मृतक व्यापारी से उनकी कोई रंजिश नहीं थी लेकिन वह धोखे में मारा गया। जबकि शूटर प्रोपर्टी डीलर सुभाष सैनी की हत्या करने पहुंचे थे। बताया जा रहा हैं कि जीवा ने यह भी जानकारी दी कि यदि सुभाष सैनी की हत्या हो जाती तो उस दिन एक नहीं बल्कि दो हत्या होती। सीओ सिटी प्रकाश देवली के अनुसार कुख्यात ने खुलासा किया कि वह केवल मुजाहिद को जानता हैं और उसी को सुभाष सैनी की हत्या के लिए भेजा गया था। लेकिन उसके साथ आने वाले युवक बिट्टू उर्फ पप्पू को नहीं जानता। शायद वह मुजाहिद का मित्रा रहा होगा। सीओ सिटी के अनुसार विक्की ठाकुर जीवा से करीब तीन वर्षों से सम्पर्क पर था और वह उसके लिए इनफोरमर की भूमिका निभाता था। शहर के भीतर विवादित भूमि की पूरी जानकारी रखते हुए एक पक्ष को सीधे तौर पर जीवा से मिलाने का काम भी विक्की ठाकुर करता था। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार जोशी के अनुसार जीवा ने पूछताछ के दौरान शहर के कई लोगों से सम्पर्क होने की बात को कबूला है। जिनमें दो युवक विशाल व अमित जोकि पूर्व में हरकी पैड़ी में रह कर ब्याज का कारोबार करते थे। जोकि शहर को छोड़कर रूड़की चले गये और अब वह मुजपफरनगर में हैं 2। इन्हीं के सम्पर्क में मुजाहिद व पप्पू है। उन्होंने बताया कि यदि जरूरत पड़ी तो जीवा की रिमांड आगे भी ली जाएगी।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *