डेढ़ लाख को मिला कुटीर उद्योग से रोजगार

भोपाल,पशुपालन एवं मत्स्य पालन मंत्री अंतर सिंह आर्य ने सोमवार को विधानसभा में बताया कि मध्यप्रदेश में वर्ष 2015-16 की दुग्ध उत्पादन वृद्धि दर 12.70 प्रतिशत रही,जो देश में
सर्वाधिक होने के साथ राष्ट्रीय वृद्धि दर से लगभग दोगुनी है। राष्ट्रीय दुग्ध उत्पादन वृद्धि दर 6.27
प्रतिशत रही। वह अपने विभाग से संबंधित अनुदान माँगों पर चर्चा का उत्तर दे रहे थे।
आर्य ने बताया कि प्रदेश में प्रतिदिन दुग्ध उत्पादन 335 लाख लीटर और प्रति व्यक्ति
दुग्ध उपलब्धता 428 ग्राम है। उन्होंने कहा कि देश में कडक़नाथ मुर्गे की बढ़ती माँग को मद्देनजर रखते हुए इंदौर संभाग के 5 जिलों से चूजा बाँटने की योजना शुरू की गयी है, जिससे कडक़नाथ के उत्पादन में काफी वृद्धि की उम्मीद है।
आर्य ने बताया कि शत-प्रतिशत शासकीय प्रीमियम पर दुर्घटना बीमा योजना में वर्ष
2016-17 में एक लाख 84 हजार 933 मछुओं को बीमा सुरक्षा दी गयी, जिसमें 29 प्रतिशत महिलाएँ हैं। बचत-सह- राहत योजना में 16 हजार 118 मछुआरों को राहत राशि दी गयी।
आर्य ने बताया कि कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग ग्रामीण इलाकों में रोजगार की दृष्टि से
महत्वपूर्ण विभाग है। वर्ष 2016-17 में एक लाख 50 हजार उद्यमों के लिये रोजगार का सृजन किया। आर्य के उत्तर के बाद सदन ने पशुपालन विभाग की 967 करोड़ 8 लाख 86 हजार,
मछली-पालन की 87 करोड़ 68 लाख 41 हजार और ग्रामोद्योग की 249 करोड़ 26 लाख 37 हजार की अनुदान माँगों को पारित कर दिया।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *