स्त्री सम्मान से जुड़े विषय पाठ्यक्रम में शामिल होंगे

भोपाल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अच्छे कार्यों का सम्मान जरूरी है. सिंहस्थ ज्योति पदक का वितरण समारोह पूर्वक किया जाएगा. प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में कार्यक्रम का आयोजन होगा जिसमें संबंधित जिले के प्रभारी मंत्री और पुलिस मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे.
वह पुलिस लाईन में सिंहस्थ ज्योति पदक और रुस्तम जी पुरस्कार वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. इस अवसर पर उन्होंने बेटियों के मान-सम्मान और गरिमा से जुड़े विषयों को पाठ्यक्रम में भी शामिल किये जाने की जरूरत बताई.
गृह मंत्री को मिला पदक
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम में गृह मंत्री भूपेन्द्र सिंह को भी सिंहस्थ ज्योति पदक से सम्मानित किया. उन्होंने सिंहस्थ के दौरान उनकी सेवाओं की सराहना की. उन्होंने कहा कि व्यवस्थाओं के प्रभावी संचालन के लिए गृह मंत्री पूरे 73 दिनों तक उज्जैन में मुख्यालय बनाकर रहे. गृह मंत्री का आयोजन की सफलता में महत्वपूर्ण योगदान है. मुख्यमंत्री की अनुशंसा पर कार्यक्रम में ही भूपेन्द्र सिंह को सिंहस्थ ज्योति पदक से सम्मानित किया गया.
जेल ब्रेक की घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि पुलिस की तत्परता ने बहुत बड़ी अनहोनी को रोक दिया। उन्होंने कहाकि पुलिस का कार्य कानून का राज कायम करना है.
गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस ने सिंहस्थ के सफल आयोजन द्वारा मध्य प्रदेश का गौरव बढ़ाया है। सिंहस्थ 2016 का सफल आयोजन कर, मध्य प्रदेश की पुलिस ने कीर्तिमान स्थापित किया है. पुलिस के प्रति विश्वास का नया वातावरण निर्मित हुआ है. मध्य प्रदेश पुलिस का कार्य देश में सबसे अच्छा है.
पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला ने स्वागत उदबोधन दिया. उन्होंने कहा कि सिंहस्थ-2016 के वृहद् आयोजन को सफल बनाने में 25 हजार से अधिक पुलिस के अधिकारी-कर्मचारियों का योगदान है. कार्यक्रम में पुरस्कृत कर्मचारियों के प्रतिनिधि के रूप में अधिकारी-कर्मचारियों को सिंहस्थ ज्योति पदक से सम्मानित किया जा रहा है.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *