ओमप्रकाश को 5 लाख और मुआवजे में नौकरी मिले

भोपाल, गैस पीडि़त संघर्ष सहयोग समिति की संयोजक साधना कार्णिक प्रधान ने एक पत्रकार वार्ता में आरोप लगाया है कि शिवराज सरकार के शौचालय निर्माण के नाम पर हो रहे फर्जीवाड़े के कारण मजदूरी करने वाले गरीब गैस पीडि़त परिवार के जवान को रेल की चपेट में आकर अपना पैर गवाना पडा.
साधना कार्णिक ने बताया है कि शासन द्वारा शौचालय न बनने के कारण ओमप्रकाश को मजबूरन 9 तारीख की सुबह 5 बजे शौच के लिए कैंची छोला रेलवे लाइन पर जाना पड़ा . सवेरे न घना कोहरा होने के कारण उसे आती हुई ट्रैन दिखाई नही पड़ी एवं पैर फिसलने के कारण उसे ट्रैन से कटने के कारण अपना एक पैर गवाना पड़ा. उन्होंने कहा कैंची छोला वार्ड नंबर 18 में घर में शौचालय न होने के कारण रेलवे ट्रैक पर करीब 10 मौते एवं गंभीर हादसे हो चुके है. समिति ने मांग की है कि गंभीर रूप से घायल ओमप्रकाश की सुध लेकर उसके संपूर्ण ईलाज के साथ उसे सरकारी नौकरी तथा 5 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाये.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *