अस्पताल में जमातियों के दुर्व्यवहार से योगी खफा, अफसरों को कानून का पालन करने की हिदायत

लखनऊ, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद के हॉस्पिटल में आइसोलेशन में रखे गए तबलीगी जमात के लोगों द्वारा किए गए दुर्व्यवहार पर सख्त रूख अपनाया है। सीएम योगी ने मामले में कड़ी कार्रवाई के आदेश देते हुए कहा कि ऐसी प्रवृत्ति के लोगों के साथ पूरी सख्ती बरती जाएगी। उन्होंने कहा कि हम उन्हें कानून का पालन करना सिखा देंगे।
मुख्यमंत्री योगी ने गाजियाबाद की घटना पर संज्ञान लेते हुए कहा, उनके खिलाफ कानूनन जो भी कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी हो वह की जानी चाहिए। गाजियाबाद में जिन लोगों ने यह हरकत की है, उस प्रवृत्ति के लोगों के साथ पूरी सख्ती करो और उन्हें कानून का पालन कराना सिखाओ।
उल्लेखनीय है कि गाजियाबाद के एमएमजी में भर्ती जमातियों के द्वारा लगातार अस्पताल स्टाफ के साथ दुर्व्यवहार किए जाने का मामला सामने आया है। ये लोग नर्सों के सामने ही कपड़े खोल देते हैं। अश्लील हरकत करने और बीड़ी-सिगरेट मांगे जाने की भी शिकायतें हैं। उन्होंने कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग के बारे में कहा जैसे इंसेफसलाइटिस से लड़कर जीते हैं, वैसे ही कोरोना से लड़कर जीतेंगे।
यही नहीं हमें आगे की भी चुनौती की तैयारी रखनी है, ताकि इस तरह की किसी भी आपदा से हम अपने प्रदेश के लोगों को पूरी तरह सुरक्षित रख सकें। लैब और इंफ्रास्ट्रक्चर को खूब मजबूत रखना है। गाजियाबाद में नर्सों के साथ अभद्रता के बाद बड़ा फैसला लिया गया है। अब तबलीगी जमात के लोगों की चिकित्सा एवं सुरक्षा में महिला स्वास्थ्यकर्मी और महिला पुलिसकर्मी नहीं लगाई जाएंगी। केवल पुरूष कर्मचारी ही मौजूद रहेंगे।
शुरुआत से ही तबलीगी जमात के कोरोना संदिग्ध स्वास्थ्यकर्मियों का सहयोग करने की बजाय उनसे बदसलूकी कर रहे हैं। दिल्ली में स्वास्थ्यकर्मियों के ऊपर थूकने और आइसोलेशन सेंटर में जानबूझकर हंगामा खड़ा करने का मामला सामने आ चुका है। वहीं, बिहार में तबलीगी जमात के लोगों की तलाश को गई टीम पर हमला भी किया गया। दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में हुए तबलीगी जमात के कार्यक्रम के बाद देश में कोरोना के हजारों मामले सामने आने की आशंका जताई जा रही है। इसमें से अभी तक लगभग 400 कोरोना संक्रमित लोग पाए जा चुके हैं। निजामुद्दीन मरकज से 2 से 3 हजार लोगों को निकाला जा चुका है। कई राज्यों में फैले जमात के लोगों को अलग-अलग राज्यों के अस्पतालों में ही एडमिट किया जा रहा है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *