दिल्ली-देहरादून रेल मार्ग पर भी अब हरिद्वार होकर चलाई जाएगी तेजस एक्सप्रेस

नई दिल्ली,देश की पहली आधुनिक सुविधाओं वाली निजी ट्रेन तेजस एक्सप्रेस को अब एक नए मार्ग पर चलाने की तैयारी है। रेल मंत्रालय ने हरिद्वार के रास्ते दिल्ली और देहरादून के बीच इसे चलाने के लिए हरी झंडी दिखा दी है। रेल मंत्री पीयूष गोयल के हवाले से शुक्रवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के अनुरोध पर दिल्ली-हरिद्वार-देहरादून मार्ग पर तेजस एक्सप्रेस रेलगाड़ी चलाने पर सैद्धांतिक रूप से सहमति मिल गई है।
उल्लेखनीय है कि आईआरसीटीसी तेजस एक्सप्रेस को नई दिल्ली-लखनऊ रूट के अलावा अहमदाबाद और मुंबई रूट पर चलाता है। तेजस ट्रेन में वाईफाई के साथ-साथ कैटरिंग का मेन्यू मशहूर शेफ द्वारा तैयार किया गया है। यात्रियों को मुफ्त में 25 लाख का रेल यात्रा बीमा मिलेगा। हर कोच में इंटिग्रेटेड ब्रेल डिस्प्ले, डिजिटल डेस्टिनेशन बोर्ड्स और इलेक्ट्रॉनिक रिजर्वेशन चार्ट भी हैं।
दिल्ली-देहरादून रूट पर चलेगी तेजस एक्सप्रेस- पीयूष गोयल ने कहा कि 2021 में हरिद्वार में होने वाले कुंभ मेले के लिए रेलवे विभाग प्रयागराज की भांति ही पूरी तैयारी करेगा। उन्होंने कहा देहरादून और हरिद्वार स्टेशनों की सुरक्षा और यात्रियों की सुविधा सुनिश्चित की जाएगी। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रावत ने इस मामले को लेकर नई दिल्ली में रेल मंत्री गोयल से मुलाकात की थी।
गोयल ने कहा कि पाथ-वे उपलब्ध होते ही रेलगाड़ी को शुरू कर दिया जाएगा। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना में ‘इनोवेटिव’ काम होने का दावा करते हुए उन्होंने कहा कि अगले ढ़ाई वर्ष में श्रीनगर गढ़वाल तक रेल पहुंचाने का पूरा प्रयास किया जाएगा।
गोयल ने कहा कि दून रेलवे स्टेशन का आधुनिकीकरण इस वर्ष नवम्बर तक कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जल्द ही रेलवे के उच्च अधिकारियों का एक दल उत्तराखण्ड भेजा जाएगा। तेजस एक्सप्रेस ट्रेन के लेट होने पर यात्रियों को मुआवजा दिया जाता है। एक घंटे से अधिक का विलंब होने पर 100 रुपए की राशि अदा की जाएगी, जबकि दो घंटे से अधिक की देरी होने पर 250 रुपए का मुआवजा दिया जाएगा।
इसके अतिरिक्त आईआरसीटीसी की इस पहली ट्रेन के यात्रियों को 25 लाख रुपए का नि:शुल्क बीमा भी दिया जाता है। यात्रा के दौरान लूटपाट या सामान चोरी होने की स्थिति के लिए भी एक लाख रुपए के मुआवजा की व्यवस्था है। तेजस ट्रेन में वीआईपी कोटा के तहत सांसद, विधायक, राज्यों के मंत्री, जनप्रतिनिधि, रेल अफसर और मीडियाकर्मियों को कंफर्म बर्थ नहीं दी जाएगी। ट्रेन में किसी भी वर्ग को किराए में रियायत नहीं मिलेगी।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *