दिल्ली की तिहाड़ जेल में हर रोज बर्बाद हो रहीं 20 से 25 हजार रोटियां

नई दिल्ली,एक और पाकिस्तान में आटा महंगा होने की वजह से रोटियों के लाले पड़े हैं, तो वहीं तिहाड़ जेल में हर रोज 20 से 25 हजार रोटियां बर्बाद हो रही हैं। इतनी रोटियों से 4 से 5 हजार और कैदियों का पेट भरा जा सकता है। कई कैदियों के खाना नहीं खाने की वजह से रोटियों की बर्बादी का सिलसिला पिछले कई साल से चल रहा है। इस पर ध्यान देने वाला कोई नहीं है। यही नहीं, कैदियों को दिए जाने वाले खाने में रोटियों के अलावा कुछ मात्रा में चावल और सब्जी भी बर्बाद हो रहे हैं। सूत्रों के अनुसार तिहाड़ जेल में करीब 18 हजार कैदी बंद हैं। यह संख्या तिहाड़ के रोहिणी और मंडोली जेल की है। यहां बंद कैदियों के लिए हर दिन लंच और डिनर में बनने वाली 20 से 25 हजार रोटियां बर्बाद हो रही हैं, लेकिन कोई भी अधिकारी गंभीरता से ध्यान नहीं दे रहा है। वे जेल के नियम अनुसार ही हर कैदी का खाना बनाते हैं। फिर चाहे वह खाए या ना खाए। जेल के एक अधिकारी का कहना है कि जो रोटियां बच जाती हैं, उन्हें बाद में सुखाया जाता है और बेच दिया जाता है या किसी संस्था को भेज दिया जाता है। लेकिन फिर भी ज्यादातर रोटियां खराब हो जाती हैं। जेल में प्रति कैदी के नियम के हिसाब से खाना बनता है। ना कि प्रत्येक कैदी की भूख के हिसाब से खाना बनाया जाता है। असल समस्या यह है कि जेल में आने के बाद अधिकतर कैदियों की भूख मर जाती है। तनाव के चलते वह ठीक से खाना नही खा पाते हैं। ऐसे में खाना बच जाता है। जो कैदी जेल में सालों से रह रहे होते हैं, वह अपना खाना ठीक से खा लेते हैं। आमतौर पर यहां की जेल नंबर-2 में कैदी खाना खा लेते हैं, क्योंकि इस जेल में सजायाफ्ता कैदी हैं। लेकिन अन्य तमाम जेल में खाना बच जाता है। रोटियों की बर्बादी का या सिलसिला 5 साल से भी ज्यादा समय से चला रहा है। बीच में से सुधारने की कोशिश की भी गई थी, लेकिन इस पर बहुत ज्यादा काम नहीं किया है। यही वजह है कि हर दिन जेल में हजारों की संख्या में रोटियां बर्बाद हो जाती हैं या इधर-उधर फेंक दी जाती हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *