शहरों में ही नहीं कश्मीर घाटी के गांवों में भी विकास का संदेश फैलाओ

नई दिल्ली,। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के प्रावधान खत्म करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां के दौरे पर जाने वाले मंत्रियों से कहा कि वे वहां शहरी इलाकों में ही नहीं बल्कि घाटी के गांवों में भी लोगों के बीच विकास का संदेश फैलाएं। सूत्रों ने यह जानकारी दी। जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम ने जम्मू में समीक्षा बैठक के बाद बताया कि लोगों तक पहुंचने के लिए बड़े अभियान के तहत 38 केंद्रीय मंत्री शनिवार से जम्मू-कश्मीर के 60 स्थानों का दौरा करेंगे। सूत्रों ने बताया कि नई दिल्ली में हुई मंत्री परिषद की बैठक में प्रधानमंत्री ने मंत्रियों से कहा कि वे स्थानीय लोगों से संवाद के दौरान विकास का संदेश फैलाएं। उनसे विभिन्न केंद्रीय योजनाओं की जानकारी भी देने को कहा गया, जिससे जमीनी स्तर पर लोगों को फायदा होगा। प्रधानमंत्री ने मंत्रियों से कहा कि उन्हें केवल शहरी इलाकों तक सीमित नहीं होना चाहिए बल्कि गांवों के लोगों से मिलना चाहिए और जम्मू-कश्मीर में केंद्र की ओर से किए जा रहे विकास कार्यों की जानकारी देनी चाहिए।
उल्लेखनीय है कि 18 से 24 जनवरी के बीच 38 केंद्रीय मंत्री संघ शासित प्रदेश के दोनों संभागों का दौरा करेंगे और गृह मंत्रालय इसका समन्वय करेगा। इनमें से 51 दौरे जम्मू के और आठ दौरे श्रीनगर के होंगे। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी रियासी जिले के कटरा और पंथाल इलाके का दौरा 19 जनवरी को करेंगी। इसी दिन मंत्रिमंडल में उनके सहयोगी रेल मंत्री पीयूष गोयल श्रीनगर जाएंगे। गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी 22 जनवरी को गांदरबल और 23 जनवरी को मनीगाम का दौरा करेंगे। कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद 24 जनवरी को बारामूला जिले के सोपोर जाएंगे। वी के सिंह का 20 जनवरी को उधमपुर के टिकरी जाने का कार्यक्रम है, जबकि किरण रिजिजू 21 जनवरी को जम्मू के सुचेतगढ़ जाएंगे। इसी तरह केंद्रीय मंत्री आर के सिंह डोडा जिले के खेलानी जाएंगे और श्रीपद नाइक श्रीनगर के एसकेआईसीसी में बैठक करेंगे। इनके अलावा केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, गिरिराज सिंह, प्रहलाद जोशी, रमेश पोखरियाल निशंक और जीतेंद्र सिंह उन मंत्रियों में शामिल है जो जम्मू-कश्मीर के विभिन्न जिलों का दौरा करेंगे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *