भोपाल को दो नगर-निगमों में बांटने का प्रस्ताव राज्यपाल को मंजूरी के लिए भेजा गया

भोपाल,भोपाल में अब दो नगर निगम का बनना लगभग तय हो गया है। भाजपा के तमाम विरोधों के बाद भी कमलनाथ सरकार ने भोपाल में दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव राज्यपाल को मंजूरी के लिए भेज दिया है। राज्यपाल के मुहर लगाने के बाद राजधानी में दो नगर निगम बनाने की अधिसूचना जारी होगी। भोपाल शहर के बंटवारे को लेकर भाजपा के तमाम दिग्गज नेताओं ने सडक़ से लेकर राजभवन तक कई बार ज्ञापन देकर अपना विरोध दर्ज कराया था। लेकिन कमलनाथ सरकार ने अब दो नगर निगमों का प्रस्ताव राज्यपाल की मंजूरी के लिए भेजकर अपने कदम से पीछे हटने से इनकार कर दिया है। सूत्रों के अनुसार भोपाल जिले में दो नगर निगमों का गठन पर सियासी विरोध जैसा भी रहा हो, अब इस बारे में फैसला राज्यपाल लालजी टंडन को करना है। नगरीय निकाय चुनाव को अप्रत्यक्ष तरीके से कराए जाने के सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी देने वाले राज्यपाल इस प्रस्ताव को अटकाएंगे, इसकी संभावना कम है। ये तय है कि अगले दो से तीन दिन में भोपाल शहर के बंटवारे और दो नगर निगम बनाने जाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाएगी।
भाजपा की आपत्ति, सरकार की दलील
भोपाल शहर के बंटवारे को लेकर बीजेपी अपनी आपत्ति दर्ज कराती आ रही है। भाजपा का आरोप है कि जातिगत आधार पर सरकार शहर का बंटवारा करने की कोशिश में है। इसका पार्टी विरोध जारी रखेगी। इधर, प्रदेश के नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह का कहना है कि भोपाल शहर में दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव राज्यपाल को भेजा गया है। उन्होंने कहा कि बढ़ती जनसंख्या और विकास के मद्देनजर दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है।
क्या है प्रस्ताव में
अभी भोपाल नगर निगम में 85 वार्ड हैं – प्रस्ताव के तहत भोपाल ईस्ट और भोपाल वेस्ट दो अलग-अलग नगर निगम बनेंगे।
भोपाल ईस्ट में 31 वार्ड होंगे।
कोलार, बावडिय़ा, मिसरोद, बागमुगालिया, कटारा, भेल, अयोध्या नगर, भानपुर और करोंद का इलाका शामिल होगा।
भोपाल वेस्ट नगर निगम में 54 वार्ड होंगे

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *