टोल टैक्स के विरोध में बसों के पहिए जाम किए, बीच रास्ते में यात्रियों को उतारा

जबलपुर, राष्ट्रीय राजमार्ग 30 पर मोहतरा टोल प्लाजा में जबलपुर से कटनी के बीच चलने वाली बसों के पहिए ऑपरेटरों ने मंगलवार करीब दस बजे के लगभग रोक दिए। इससे टोल प्लाजा के पास बसों की कतारें लग गईं। ऑपरेटर्स ने यात्रियों को टोला प्लाजा से 500 मीटर पहले ही उतार दिया। जिससे यात्री दिन भर परेशान होते रहे। दरसल नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया और बस आपरेटर्स के बीच टैक्स टैरिफ को लेकर विवाद चल रहा है, जिसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ा। मंगलवार को अचानक शुरू हुई हड़ताल से दिन भर यातायात प्रभावित रहा।
बस ऑपरेटरों का कहना है कि जबलपुर से कटनी के बीच उनके रोज चार फेरा लगते हैं। प्रति चक्कर 80 रुपए के हिसाब से रोजाना 320 रुपए टोल टैक्स के नाम पर वसूला जाता है। जो महीने में लगभग 10 हजाार रुपए हो जाता है। बस ऑपरेटरों का कहना है कि इस तरह की वसूली एक तरह से ज्यादती है। हैरानी की बात है कि वाहनों से एक तरफ खरीदी के समय शोरूम में रोड टैक्स वसूल लिया जाता है। इसके बाद डीजल, पेट्रोल में प्रति लीटर के हिसाब से सड़क निधि के लिए पैसा काटा जाता है। इन मदों में पैसा वसूलने के बाद सड़क निर्माण के बाद देखरेख की जिम्मेदारी सरकार की बनती है, लेकिन पैसा आपरेटर और जनता से वसूल रहे हैं।
समस्या हल नहीं होने पर हड़ताल
बस ऑपरेटरों का कहना है कि एनएच पर टोल नाका द्वारा राशि वसूली को लेकर उन्होंने अनुविभागीय अधिकारी को ज्ञापन सौंपा था लेकिन उनकी समस्याओं का कोई निदान नहीं हुआ। बस संचालकों ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की परियोजना क्रियान्वयन इकाई जबलपुर के उच्च अधिकारियों से भी चर्चा की थी, लेकिन इसके बाद भी कोई ठोस पहल नहीं होने से आक्रोशित बस ऑपरेटरों ने मंगलवार को जबलपुर कटनी यात्री बसों का परिचालन पूरी तरीके से बंद करने का निर्णय लिया है।
अधिकारियों की समझाईश भी नहीं आई काम
मोहतरा टोल प्लाजा में बसों का परिचालन ठप किए जाने और जाम होने की खबर लगते ही तहसीलदार नीता कोरी, गोसलपुर टीआई सारिका पांडे टोल प्लाजा पर पहुंची और बस ऑपरेटरों से बात की, लेकिन बस आपरेटर अपनी मांगों पर अड़े हुए थे, उनका कहना था कि जब तक उनकी मांगों का सही तरीके से निराकरण नहीं हो जाता वह बसों का परिचालन नहीं करेंगे। मोहतरा टोल प्लाजा के दोनों तरफ करीब 3 किलोमीटर के क्षेत्र में बस ऑपरेटरों ने अपनी बसों को रोक दिया था।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *