नर्मदा नदी उफान पर, घाटों पर बढ़ाई सुरक्षा, बरगी के खुले 17 गेट

जबलपुर,बरगी बाधं के केचमेंट एरिया में हो रही लगातार बारिश के कारण डेम के 17 गेट खोल दिए गए हैं। बांध से करीब 2 लाख 70 हजार 795 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। इससे नर्मदा के घाटों पर जलस्तर एक बार फिर बढ़ गया है, वह भी ऐसे समय जब घाटों पर गणेश विसर्जन को लेकर लोगों की भीड़ लगी हुई है, गणेश समितियां जुलूस के साथ पहुंच रहीं हैं। जिसे देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है, लोगों को घाट की ओर जाने से रोका जा रहा है, विसर्जन के लिए पहुंच रहे लोगों को सीधे ग्वारीघाट में बनाए विसर्जन कुंड की ओर रवाना किया जा रहा है।
ग्वारीघाट, जिलहरीघाट, दरोगाघाट, तिलवारा घाट, लम्हेटा व भेड़ाघाट में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। होमगार्ड के जवान और गोताखोरों की टीम लगाई गई है। वहीं पुलिस अधिकारी भी घाटों पर सुरक्षा की लगातार मॉनीटरिंग कर रहे हैं। बरगी बांध के गेट खुलने से पर्यटकों की संख्या में भी भारी इजाफा हुआ है, लोग डेम घूमने के लिए पहुंच रहे हैं। इस लिहाज से डेम के पास भी सुरक्षा बल तैनात किया गया है।
अलर्ट जारी किया गया
बांध का जलस्तर बढ़ने के कारण गेट खोले जाने के पूर्व डेम प्रबंधन ने तटीय क्षेत्रों के लिए अलर्ट जारी किया गया है। नर्मदा तट पर बसे नरसिंहपुर, होशंगाबाद समेत २९० किलोमीटर तक यह अलर्ट जारी किया गया है। घाटों पर बढ़े जलस्तर के कारण विसर्जन के दौरान भी पुलिस को चौकन्ना रहने के निर्देश दिए गए हैं। ऐहतियात के तौर पर प्रमुख घाटों पर पुलिस बल तैनात किया गया है।
ऐसे खुले गेट
बुधवार को केचमेंट एरिया में हुई बारिश के कारण गेटों को खोला गया था। इस दौरान 15 गेटों से पानी छोड़ा जा रहा था। अब गुरुवार को पानी अधिक आने के कारण दो गेटों को और खोल दिया गया है। कार्यपालन यंत्री अजय सूरे ने बताया कि गेटों से 7468 क्यूमिक पानी छोड़ा जा रहा है, जबकि पॉवर जनरेशन प्वाइंट से 200 क्यूमिक पानी छोड़ा जा रहा है। कुल ७६६८ क्यूमिक पानी छोड़ा जा रहा है। 17 गेटों की उंचाई 2.91 मीटर रखी गई है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *