जयारोग्य अस्पताल में 27 वार्ड बॉय पर मंत्री को एक भी नहीं मिला, अब ठेकेदार कंपनी के इंजीनियर पर होगी FIR

ग्वालियर,मध्य प्रदेश शासन के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर एक महिला को अस्पताल में भर्ती कराने जयारोग्य अस्पताल पहुंचे। वहां पर उन्हें ट्रामा सेंटर में एक भी वार्ड-बाय नहीं मिला। नाही मरीज को ले जाने के लिए स्ट्रेचर उपलब्ध हुआ। इससे नाराज मंत्री ने अस्पताल का निरीक्षण किया। आईसीयू में निरीक्षण के दौरान मरीज के परिजन ने बताया कि सीटी स्कैन कराने के लिए उसे अपने पिताजी के लिए स्ट्रेचर उपलब्ध नहीं हो रहा है। जिसके कारण वह परेशान है। इसी बीच दिन डॉ भरत जैन और अस्पताल अधीक्षक डॉक्टर अशोक मिश्रा भी पहुंच गए थे। मंत्री ने उनसे पूछा कि अस्पताल में कितने वार्डबाय हैं। उन्होंने उनकी संख्या 27 बताई। जानकारी दी कि यह ठेका एक निजी कंपनी हाइट्स को दिया गया है।
मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने कंपनी के साइट इंजीनियर दिनेश नकाते को बुलाकर उसे ड्यूटी चार्ट मांगा, जो वह मंत्री को नहीं दे पाया। इसके बाद मंत्री ने थाना प्रभारी को इंजीनियर को गिरफ्तार करने के आदेश दिए । बाद में उसे थाने से छोड़ दिया गया।
सूत्रों के अनुसार यह कंपनी प्रतिमाह लाखों रुपया अस्पताल से वसूल करती है। लेकिन 25 फ़ीसदी लोगों को भी वहां तैनात नहीं करके रखती है। जयारोग्य अस्पताल में इन दिनों भारी भ्रष्टाचार फैला हुआ है। मरीज काफी परेशान हो रहे हैं ।
मध्य प्रदेश शासन के मंत्री ने स्वयं अपनी आंखों से भ्रष्टाचार और लापरवाही को देख लिया। पुलिस मंत्री के कहने पर इंजीनियर को पकड़कर थाने ले गई थी। लेकिन मंत्री के जाते ही उसे थाने से छोड़ दिया गया। अब देखें कंपनी और डॉक्टरों पर क्या कार्रवाई होती है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *