एसबीआई ने एक माह में तीन से अधिक बार पैसा जमा कराने पर लगाया शुल्क

मुंबई, भारत का प्रमुख सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) 1 अक्टूबर 2019 से अपने सेवा शुल्क में बदलाव करने जा रहा है। इसमें बैंक में पैसे जमा कराने से निकालने तक, चेक का इस्तेमाल, आरटीजीएस से जुड़े सर्विस चार्ज शामिल हैं। एसबीआई ने अपनी वेबसाइट पर इस संबंध में एक सर्कुलर भी जारी कर दिया है। बैंक के सर्कुलर के अनुसार एक अक्टूबर से आप महीने में केवल तीन बार मुफ्त में पैसे जमा करवा सकते हैं। इसके बाद यदि आपने खाते में 100 रुपए भी जमा किए तो आपको 50 रुपए (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना पड़ेगा। इस प्रकार जब आप चौथी, पांचवीं या ज्यादा बार कैश जमा करेंगे तो आपको हर बार 56 रुपए ज्यादा देने होंगे। इसके अलावा यदि चेक किसी कारण से बाउंस हो जाता है तो चेक जारी करने वाले पर 150 रुपए (जीएसटी का अतिरिक्त) का भुगतान करना होगा। जीएसटी मिलाकर यह चार्ज 168 रुपए होगा। अगर कोई व्यक्ति बैंक शाखा में जाकर के आरटीजीएस करता है तो इस बार उसको कम चार्ज देना होगा। हालांकि नेटबैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग या फिर योनो एप से किए जाने वाले ऐसे ट्रांजेक्शन पर कोई चार्ज नहीं लगेगा।1 अक्टूबर से 2 से 5 लाख रुपए तक के आरटीजीएस पर 20 रुपए (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना होगा। अभी यह 2 से 5 लाख रुपए तक के आरटीजीएस पर 25 रुपए है।5 लाख रुपए से ज्यादा की आरटीजीएस पर 40 रुपए (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना होगा। अभी 5 लाख से ऊपर के आरटीजीएस पर 50 रुपए का चार्ज देना पड़ता है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *