मध्यप्रदेश में फिर सक्रिय हुआ मानसून, जबलपुर, बालाघाट, मंडला में मूसलाधार का अंदेशा

भोपाल,मध्यप्रदेश में पिछले दो दिनों से थमा बारिश का दौर मंगलवार को एकबार फिर शुरू हो गया। पिछले चौबीस घंटों के दौरान सागर, जबलपुर, शहडोल, रीवा संभागों के जिलों में बारिश हुई। वहीं, शेष संभागों के जिलों में हल्की-फुल्की बारिश दर्ज की गई। छतरपुर जिले में सर्वाधिक 60.44 मिली मीटर बारिश हुई, जबकि विदिशा जिले में 45 मिमी बारिश दर्ज की गई। सतना, सिंगरौली, रीवा, नौगांव, बुधनी में भी अच्छी बारिश हुई। राजधानी भोपाल में सुबह से रुक-रुककर बारिश हुई। सागर से भोपाल का संपर्क टूट गया। राहतगढ़ और बेगमगंज में बीना नदी उफान पर हो गई है।
मौसम विभाग ने आगामी चौबीस घंटों के दौरान प्रदेश के 52 में से 51 जिलों में गरज चमक के साथ बारिश का अनुमान जताया है। जबलपुर, बालाघाट, मंडला सहित 28 जिलों में अति वृष्टि की ओरेंज चेतावनी जारी की है। मध्य, पूर्वी और उत्तरी अंचल में अधिकांश स्थानों पर आगामी 48 घंटों के दौरान भारी बारिश होने की संभावना है। हालाकि राज्य के अन्य हिस्सों में भी बारिश होने या बादल छाए रहने की संभावना है।
यह सिस्टम कराएगा 15 अगस्त से झमाझम
मंगलवार को बंगाल की खाड़ी में कम दवाब का क्षेत्र बनने से बारिश होगी। अगले 24 घंटों के दौरान और अधिक ताकतवर हो जाए। इस निम्न दाब क्षेत्र के प्रभाव में पूर्वी मध्यप्रदेश में 13 और 14 अगस्त एवं पश्चिम मप्र में 14 और 15 अगस्त को भारी वर्षा कहीं-कहीं पर बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। राजधानी समेत ज्यादातर शहरों में 15 अगस्त से तेज बारिश की संभावना है।
इन जिलों में बौछारे पडऩे के आसार
इंदौर, धार, खंडवा, खरगौन, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, बुरहानपुर, छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी, कटनी भोपाल, रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, उज्जैन, नीमच, रतलाम, शाजापुर, देवास, मंदसौर, आगर में बौछार पडऩे का अनुमान है।
यहां भारी बारिश का अनुमान
मुरैना, कटनी, अनूपपूर, जबलपुर, डिंडौरी, सतना, रीवा ,सीधी, सिंगरौली, शहडोल, उमरिया, सागर, दमोह, पन्ना, छतरपुर, सिंगरौली, दतिया , गुना, अशोकनगर, श्योपुर, खंडवा, मंडला , बालाघाट.हरदा, होशंगाबाद, सीहोर, विदिशा, रायसेन, टीकमगढ़।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *