घाटी में पीएम की अपील का असर, अदा की गई जुम्मे की नमाज, 20 परिवारों से हर रोज मिलेंगे अधिकारी

श्रीनगर,जम्मू-कश्मीर से धारा -370 को हटाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को राष्ट्र के नाम संबोधन के दौरान कहा था कि सरकार कोशिश कर रही है कि ईद के दौरान लोगों को कोई परेशानी नहीं हो। उधर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने भी अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा था कि स्थानीय लोगों को किसी तरह की दिक्कत ना हो। पीएम और डोभाल के निर्देश के बाद स्थानीय प्रशासन ने कश्मीर घाटी में लोगों को स्थानीय मस्जिदों में शुक्रवार की नमाज अदा करने की अनुमति देने के लिए प्रतिबंधों में ढील देने का निर्णय किया है।
एक अधिकारी ने कहा, हम शुक्रवार की नमाज अदा करने के लिए स्थानीय लोगों को राहत देने वाले है। इसके लिए प्रतिबंधों में ढील दी जाएगी। इस दौरान ऐतिहासिक जामा मस्जिद में किसी भी तरह की मंडली (एक साथ जुटाव) की अनुमति नहीं होगी। अधिकारियों ने साफ कहा है कि लोगों को अपने आसपास के मस्जिदों में नमाज अदा करने के लिए शुक्रवार को छूट दी जाएगी। उधर, राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने श्रीनगर के निचले इलाके का दौरा किया और करीब दो घंटे तक वहां पर रहे। उन्‍होंने सुरक्षा बलों और स्‍थानीय लोगों से बातचीत की। उन्‍होंने सीआरपीएफ के जवानों के साथ लंच भी किया।
बता दें कि गुरुवार को पीएम ने कहा था, मैं जम्मू-कश्मीर के साथियों को भरोसा देता हूं कि धीरे-धीरे हालात सामान्य हो जाएंगे और उनकी परेशानी भी कम होती चली जाएगी। इस बीच गुरुवार को घाटी में हालात सामान्य होते दिखे। लोग अपने रोजमर्रा के कामों के लिए घरों से निकले और बाजार तक गए। उधर,जम्मू और कश्मीर के सांबा जिले में अधिकारियों के निर्देश के बाद गुरुवार को स्कूल और कॉलेज भी खुले। वहीं,जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव ने सरकारी कर्मचारियों को भी तत्काल प्रभाव से काम पर वापस लौटने का निर्देश दिया है।
उधर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद श्रीनगर में स्थानीय लोगों से की जा रही लगातार मेल-मुलाकात से सीख लेते हुए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने अपने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे प्रतिनिदिन कम से कम 20 परिवारों से मुलाकात करें।
इन अधिकारियों में उपायुक्त और अराजपत्रित अधिकारी भी शामिल होंगे। लोगों से इन मुलाकातों के अलावा प्रशासन ने सेलुलर सेवा बंद किए जाने के कारण प्रभावित हुए लोगों को संचार सुविधाएं सुनिश्चित कराने के लिए घाटी भर में 400 टेलीफोन बूथ भी स्थापित किए हैं। राजभवन के उच्च पदस्थ सूत्रों ने कहा कि सोमवार से ईद समारोह शुरू होने से पहले घाटी में सामान्य स्थिति लाने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं। श्रीनगर और दक्षिण कश्मीर के अन्य संवेदनशील शहरों में किराने के सामान पहुंचाने के लिए बड़ी संख्या में मोबाइल वैन तैनात की गई हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *