रंगदारी वसूलने में छोटा शकील पर भी कसा शिकंजा, पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

मुंबई, रंगदारी यानि अवैध तकीके से डरा धमका कर रकम वसूली के जिस केस में पिछले पखवाड़े दाऊद इब्राहिम के भतीजे मोहम्मद रिजवान इकबाल इब्राहिम शेख को गिरफ्तार किया गया था, मुंबई क्राइम ब्रांच ने उस केस में अब छोटा शकील को भी आरोपी बनाया है। एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, हमने इस केस में मकोका लगाया है। मकोका लगाने का मूल आधार ही यही है कि अब तक इस केस में रिजवान सहित गिरफ्तार 3 आरोपी छोटा शकील के सिंडिकेट से जुड़े हुए हैं। बता दें कि मकोका लगाने की तमाम शर्तों में से एक शर्त यह भी है कि किसी केस में जिन आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई हो, उनमें से किसी एक के खिलाफ पिछले 10 साल में कम से कम दो आरोपपत्र जरूर दाखिल हों। छोटा शकील के खिलाफ पिछले एक दशक में दायर चार्जशीट की संख्या पूरे देश में 40 से 50 के बीच होगी।
अधिकारी ने कहा, ‘हमने जो सबूत जमा किए हैं, उनमें फहीम मचमच के धमकी भरे कॉल्स के ऑडियो भी हैं। इसमें फहीम मचमच मुंबई के एक व्यापारी से कह रहा है कि मैं पाकिस्तान में छोटा शकील के ऑफिस से बोल रहा हूं।’ क्राइम ब्रांच के अधिकारी का कहना है कि फहीम मचमच की खुद की यह हैसियत नहीं है कि वह बिना छोटा शकील से पूछे किसी को धमकी भरे फोन करे। मुंबई क्राइम ब्रांच ने छोटा शकील के साथ मचमच को भी वॉन्टेड दिखाया है। इस केस में दाऊद के भतीजे और इकबाल कासकर के बेटे रिजवान के साथ अहमद अफरोज वडारिया और अशफाक रफीक टॉवेलवाला नामक दो अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार किया गया है। मुंबई क्राइम ब्रांच का जो केस है, उसके मुताबिक शिकायतकर्ता बिजनेसमैन की टॉवेलवाला के साथ किसी बिजनेस में पार्टनरशिप थी। बिजनेसमैन को टॉवेलवाला से 15 लाख रुपये चाहिए था।
टॉवेलवाला ने यह रकम देने के बजाए अहमद अफरोज वडारिया से दुबई में संपर्क किया। वडारिया ने फिर दाऊद के भतीजे रिजवान को कॉल किया। रिजवान ने फहीम मचमच को और मचमच ने फिर छोटा शकील को फोन किया। इसके बाद संबंधित बिजनेसमैन को रिकॉर्डेड ऑडियो और फिर सीधे कॉल करके धमकियां दी गईं और 15 लाख रुपये की रकम भूल जाने को कहा गया। संबंधित बिजनेसमैन इसके बाद क्राइम ब्रांच चीफ संतोष रस्तोगी, सीनियर इंस्पेक्टर अजय सावंत और सचिन कदम से मिला। इसी के बाद इस केस में 5 आरोपियों की शिनाख्त हुई और तीन की बाद में गिरफ्तारी हुई। दाऊद के भतीजे से जुड़े इस केस में छोटा शकील की सक्रिय भूमिका के बाद उन खबरों पर पूर्ण विराम लग गया, जिसमें छोटा शकील के दाऊद गैंग से अलग होने और खुद का गिरोह बनाने की बातें की जा रही थीं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *