अंधे हत्याकांड का राज खुला, देवर से प्यार होने पर भाभी ने उसके साथ मिलकर किया था पति का कत्ल

शहडोल, देवर के इश्क में दीवानी भाभी ने निर्दोष पति को मौत के घाट उतार कर मामले में ऐसे व्यक्ति को फंसाने का षडयंत्र रचा जिसका कुछ दिनों पहले मृतक से विवाद हुआ था। किन्तु अपराधी कितना भी शातिर हो, पुलिस से बचना नामुमकिन है। पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह के निर्देशन में जांच में जुटी ब्यौहारी पुलिस ने अंतत: मामले की गुत्थी सुलझा ली और आरोपी देवर-भाभी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
जिले के ब्यौहारी थाना क्षेत्र अंतर्गत समधिन नदी से जुड़े गहिरा नाला के पास जंगल में बेशरम की झाड़ी के बीच मृतक महेश साकेत पिता झुर्रा साकेत की संदिग्ध परिस्थितियों में मिली लाश और अंधे हत्याकांड का खुलासा पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह द्वारा गुरुवार को पत्रकारों के समक्ष किया गया। इस मामले में सूचनाकर्ता मृतक का भाई मैकू साकेत और उसकी भाभी यानी मृतक की पत्नी शकुंतला साकेत ही हत्यारे के रूप में चिन्हित किए गए जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।
देवरानी ने दिया संकेत
अंधे हत्याकांड की विवेचना के दौरान जो कहानी सामने आई उसे सार्वजनिक करते हुए पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह ने बताया कि 02 जुलाई को झाड़ियों के बीच मृतक महेश साकेत की लाश पाए जाने की सूचना प्राप्त होने पर व्यौहारी थाना प्रभारी अनिल पटेल तथा उपनिरीक्षक अमर वर्मा ने घटनास्थल पर पहुंचकर सूचनाकर्ता मैकू पिता झुर्रा साकेत निवासी भमरहा द्वितीय थाना ब्यौहारी की सूचना पर जांच प्रारंभ की गई। इस दौरान संदेही हीरालाल सिंह की तलाश की गई जो एक माह पूर्व मृतक के साथ हुई मारपीट की घटना के कारण पुलिस से बच रहा था। इसी बीच विवेचना के दौरान आरोपी मैकू की पत्नी सुनीता साकेत से जानकारी मिली कि मृतक के भाई मैकू साकेत एवं मृतक की पत्नी शकुंतला साकेत के बीच अवैध संबंध हैं जिसकी वजह से मृतक महेश, मैकू एवं मृतक की पत्नी से आए दिन विवाद होता था। मैकू द्वारा अपनी पत्नी के साथ मारपीट की जाती थी। जिसके कारण वह करीब 1 साल पूर्व से ही मायके में रहने लगी है। देवर-भाभी के बीच अवैध संबंध की भनक लगते ही पुलिस द्वारा मृतक के भाई सूचनाकर्ता मैकू साकेत एवं मृतक की पत्नी शकुंतला साकेत से सघन पूछताछ की गई। सख्त पूछताछ के बाद मैकू साकेत एवं शकुंतला साकेत ने अवैध संबंध होने व मृतक की हत्या करने की बात स्वीकार कर ली। उन्होंने बताया कि 30 जून 2019 को गहिरा टोला में दोपहर करीब 11 बजे सोते समय टांगी मारकर हत्या कर कमरे में ताला लगा कर घर वापस आ गए थे। फिर 1 जुलाई को मौका देखकर रात 10 बजे उन्होंने समधिन नदी के गहिरा नाला के पास जंगल में बेशरम की झाड़ी में लाश को दरी में लपेट कर फेंक दिया तथा साइकल को मृतक के भाई मैकू द्वारा गहिरा बंधा के पानी में फेंक दिया एवं मृतक के मोबाइल की बैटरी निकाल कर मृतक की पत्नी अपने पास रख ली।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *