एचडीएफसी ने किया आगाह हैकर्स ऐप के जरिए धोखे से निकाल सकते है खाते से रकम

नई दिल्ली,ऑनलाइन बैंकिंग में फ्रॉड के जरिए हमलावर हैकर्स आपके अकाउंट से पूरा पैसा उड़ा सकते हैं। इसके लिए आए दिन नए तरीके अपनाए जाते हैं। नया तरीका यूपीआई बेस्ड ट्रांजैक्शन को टार्गेट कर रहा है, क्योंकि आजकल यूपीआई बेस्ड ट्रांजैक्शन तेजी से बढ़ रहे हैं। इस फ्रॉड के जरिए अटैकर्स अकाउंट से पूरा पैसा उड़ा सकते हैं। लोगों को ये फ्रॉड आसानी से बेवकूफ बनाने का काम भी कर रहे हैं। इस तरह के फ्रॉड में यूजर्स से एक ऐप इंस्टॉल कराया जाता है जो रिमोटली आपका डेटा हैकर्स को भेजता है। जाहिर है इसके बाद आपके मोबाइल में रिसीव हुए ओटीपी उन फ्रॉड के पास जाते हैं और वो आसानी से आपके अकाउंट को खाली कर सकते हैं। एचडीएफसी बैंक ने लोगों को अगाह किया है। बैंक ने कहा है, ‘फ्रॉडस्टर्स आपसे एनीडेस्क एप डाउनलोड करने को कह सकते हैं और आपसे 9 डिजिट का कोड मांगेंगे और इससे वो आपका स्मार्टफोन अपने कंट्रोल में ले लेंगे।’ आज कल फ्रॉडस्टर्स लोगों को कॉल करके भी ओटीपी मांग लेते हैं। एनीडेस्क का नाम तो सुना ही होगा। अगर नहीं सुना, तो बता दें कि ये एक छोटा सॉफ्टवेयर है जो कंप्यूटर को रिमोटली ऐक्सेस करने का काम करता है। इस सॉफ्टवेयर को कुछ कंपनियां कस्टमर सपोर्ट के लिए यूज करती है। लेकिन इसी सॉफ्टवेयर का यूज अब फ्रॉड के लिए किया जा रहा है।
इस फ्रॉड से अपना बचाव कैसे करें-
थंब रूल ये है कि आप किसी के कहने पर भी अपने स्मार्टफोन इस तरह के ऐप इंस्टॉल न करें। हां, अगर आपको पता है कि जिन पर आप भरोसा कर सकते हैं। इनमें बैक की तरफ से भी लोग हो सकते हैं। वर्ना किसी की कॉल आने पर ऐसा न करें। बैंक स्टेटमेंट चेक करें किसी भी ट्रांजैक्शन पर संदेह हो तो बैंक से संपर्क करें। रिमोट कंट्रोल वाले ऐप्स को अन इंस्टॉल कर लें। सभी अकाउंट्स के पासवर्ड्स चेंज कर लें। ओटीपी किसी को न दें। बैकिंग से जुड़े काम के लिए किसी थर्ड पार्टी ऐप को इंस्टॉल न करें।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *