दो सगी बहनों में बड़ी बहन का वजन छोटी के मुकाबले रहता है अधिक

लंदन,एक अध्ययन में खुलासा हुआ है कि दो सगी बहनों में बड़ी बहन का वजन ज्या दा ही होता है। स्वी डिश रिसर्च स्ट डी में साल 1991 और 2009 में जन्मीं बहनों की 13,406 जोड़‍ियों को लिया गया। इसमें यह बात देखने को मिली कि पहले जन्मींी बहनों में बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्सज) अधिक होता है और मोटे होने की संभावना भी अधिक होती है। इस रिसर्च में यह भी बताया कि जब परिवार में पहली बेटी का जन्मक हुआ तो बाद में जन्मींा बेटी की अपेक्षा उसका वजन कम था। लेकिन जैसे-जैसे दोनों बड़ी हुईं, उनका बीएमआई 2.4 प्रतिशत बढ़ गया। रिसर्च में यह पाया गया कि जो बहनें पहले पैदा हुई हैं उनकी छोटी बहनों की तुलना में 29 फीसदी अधिक वजन की संभावना होती है। यानी कि उनके मोटे होने की जो संभावना है वह 40 प्रतिशत अधिक है। छोटी बहन होने पर बड़ी बहन के वजन बढ़ने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी दिया गया है। ऑकलैंड यूनिवर्सिटी के लिंगिंस संस्थारन के प्रफेसर वेन कटफील्डो के मुताबिक पहले गर्भधारण के मामलों में भ्रूण को पोषक तत्वोंं की आपूर्ति करने वाली ब्ल‍ड वेसेल्स थोड़ी पतली होती हैं। इससे पोषक तत्वोंक की आपूर्ति में संभावित कमी होती है। इससे अधिक फैट इकट्ठा होने और इंसुलिन का खतरा होता है। जो कि लाइफ में बाद में कम प्रभावी रूप से काम करता है। इस सिद्धांत के अलावा न्यू यॉर्क के लेनॉक्सा हिल हॉस्पिटल के सेंटर फॉर वेट मैनजमेंट की निदेशक डॉ मारिया पेना भी अपना तर्क देते हैं। वह कहती हैं कि माताएं अपने पहले बच्चेप की अच्छी हेल्थ को लेकर खासी सजग रहती हैं। ऐसे में वह उन्हें अधिक स्त नपान कराती हैं। तो बच्चों में यही खाने की आदत लाइफटाइम बनी रह सकती है। इसके अलावा सिबलिंग राइवलरी भी वजन बढ़ने की एक और संभावना हो सकती है। हो सकता है कि पहले जन्मेंद बच्चेर घर में खाने के लिए दूसरे बच्चेढ के साथ कॉम्पीहटिशन करें। सोचिए जरा, कोई आपसे यह कहे कि आपके वजन बढ़ने का रीजन आपकी छोटी बहन है। आप इस बात को मजाक में लेंगे या फिर हो सकता है कि इस बात पर नाराजगी जाहिर करें। लेकिन इस ताजे अध्ययन में यह सच बताया गया है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *