गढ़वा-अंबिकापुर मार्ग पर यात्री बस के 50 फीट नीचे गड्ढे में गिरने से छह लोगों की मौत

रांची, झारखंड के गढ़वा-अंबिकापुर मार्ग पर अन्नराज नावाडीह घाटी में छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर से गढ़वा आ रही एक निजी यात्री बस सोमवार रात के करीब ढाई बजे पलटकर घाटी के बीच में पचास फीट नीचे गिरकर फंस गई है। दुर्घटना में छह यात्रियों की मौत हो गई है। वहीं 43 यात्री घायल हैं, जिन्हें गढ़वा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया गया, लेकिन यात्री बस दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद ढलान पर फंसी हुई थी ,जिसके कारण बस के नीचे दबे घायल यात्रियों को निकालने में काफी कठिनाई हुई। इसके बावजूद लोगों ने अपनी जान जोखिम में डाल कर घायलों को बस से बाहर निकलने में मदद की। बाद में मौके पर प्रशासन की ओर से मंगाये गये क्रेन की मदद से मृतकों के शव को बाहर निकाला जा सका।
घटना की सूचना मिलने पर गढ़वा की पुलिस अधीक्षक शिवानी तिवारी मौके पर पहुंची। उनकी देखरेख में राहत और बचाव कार्य शुरू किया गया और तत्काल एंबुलेंस की व्यवस्था कर सभी घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा गया। उन्होंने बताया कि एसी यात्री बस में स्लीपर की भी व्यवस्था और हादसे में बड़ी संख्या में महिला यात्री भी हताहत ुई है। घायलों में पांच से सात की स्थिति काफी गंभीर बतायी जा रही है और मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका व्यक्त की जा रही है। गंभीर रूप से घायल यात्रियों को सदर अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए रिम्स रांची भेज दिया गया।
हादसे के संबंध में घायल यात्रियों ने बताया कि रात में सभी गहरी निंद्रा में थे, तभी अचानक तेज गति से जा रही यात्री बस सड़क किनारे गड्ढे में जा गिरी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि रात में अंधेरे के कारण संभवतः वाहन चालक को ठीक से सड़क की चौड़ाई का अंदाजा नहीं मिला या झपकी आने के कारण अनियंत्रित वाहन करीब 50फीट गहरे गड्ढे में जा गिरी। यह दुर्घटना गढ़वा जिला मुख्यालय से करीब 14 किलोमीटर पहले अन्नराज घाटी में हुई। सुबह दस बजे तक सभी घायलों और मृतकों को बाहर निकाल लिया गया, लेकिन यात्री बस में मौजूद घायलों के सामान को निकालने का काम बाद में भी जारी रहा। वहीं यात्री बस को बाहर निकालने में भी क्रेन को काफी मशक्कत का सामना करना पड़ा।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *