जेल प्रहरी से प्रेम में नाकाम होने पर सतना केंद्रीय जेल में कैदी ने फांसी लगाकर जान दे दी

सतना, केंद्रीय कारागार में एक महीने के अंदर दो कैदियों द्वारा फांशी पर झूल कर आत्महत्या किये जाने की घटनाऐ सामने आई है। जानकारी के अनुसार शनिवार की शाम अनिल कुसबाहा नाम के सजायाप्ता कैदी ने आत्महत्या कर अपनी जान दे दी। चर्चा है की मृतक जेल के अंदर वर्दीधारी महिला जेल प्रहरी को दिल दे बैठा था, ओर इसी बात को लेकर वो मानसिक संतुलन खोया और जेल के कारखाने में फांसी पर झूल गया। आत्महत्या का कारण प्यार में नाकाम होना सामने आ रहा हे। गोरतलब हे की इससे पहले भी सतना क्रेंदीय जेल में 7 मई को चित्रकूट जुड़वा मासूम हत्या कांड के विचाराधीन कैदी रामकेश यादव की संदिग्ध मौत ने सनसनी फैला दी थी, और लाश कारागार में बने मंदिर के छज्जे से लटकती मिली थी। वही शनिवार को अपनी पत्नी के हत्या में आजीवन कारावास की सजा काट रहे अनिल कुशवाहा ने फांसी लगाकर आत्म हत्या कर ली। जानकारी के अनुसार अनिल की लाश जेल के कारखाने में फंदे पर झूलती मिली। घटना की सूचना मिलने पर जेल के अंदर जिला व पुलिस प्रशासन की टीम मौके पर जाँच करने पहुची, अधिकारी इसे शुरुआती जांच मे आत्महत्या ही मान रहे है, लेकिन आत्महत्या की बजह कोई बताने को तैयार नही है, सुत्र बताते है की मृतक ने मौत के पहले एक सुसाइट नोट लिखा जिसमे जेल प्रहरी महिला से अपने प्रैम संबध के साथ ही प्रेम मे सफल न होने की बात भी लिखी है। हालांकि पुलिस ने सुसाइट नोट कब्जे में लिया लेकिन उसका खुलासा नही किया। वही मौत की खबर पाकर मृतक के परिजन सतना पहुचे और अनिल की मौत को साधारण मौत नही बल्कि हत्या बताया। उनका कहना है की अनिल जल्द रिहा होने बाला था, वो 9 साल की सजा काट चुका था, और अच्छे आचरण के चलते जेल ने सीओ लम्बरदार था, और जल्द ही सजा माफी होनी थी मगर अचानक उसकी मौत गले नही उतर रही। वही जेल अधिकारियो का कहना है कि मृतक ने आत्महत्या की है। मृतक का आचरण बहुत अच्छा था इसी लिए जेल की जिम्मेदारी दे रखी गई थी, वही जेल सुत्रो की माने तो कैदी ने एक तरफा प्यार में असफल होने की बजह से मौत को गले लगाया। गोरतलब है की सतना क्रेंदीय जेल में एक माह के अंदर ये दूसरी घटना है, जब कैदी ने आत्महत्या की हो, वही दो माह पहले एक महिला जेल प्रहरी ने जेल परिषर में बने आवास में जहर खाकर आत्महत्या की थी, जिसका कारण प्रेम मे नाकाम होने की बात सामने आई थी। कैदी की मोत के मामले की न्यायिक जांच की जा रही है जिसके पूरा होने के बाद ही इस मामले की सच्चाई सामने आ सकेगी है ।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *