बंगाल और ओडिश के दम पर BJP की लोकसभा में होगी 300 के पार सीटें -कैलाश

इंदौर,भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने इंदौर में अंतिम चरण के मतदान के बाद रविवार को दावा किया कि बंगाल और ओडिशा में बड़ी चुनावी सफलता के दम पर पार्टी इसबार करीब 300 लोकसभा सीटें जीतेगी। जिससे केंद्र में दोबारा नरेंद्र मोदी सरकार बनने की राह प्रशस्त होगी। विजयवर्गीय, पश्चिम बंगाल के भाजपा मामलों के प्रभारी हैं। लोकसभा चुनावों के मतदान के लिए अपने गृहनगर इंदौर पहुंचे वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा कि मैं समझता हूं कि मौजूदा चुनाव में भाजपा 300 के आस-पास सीटें जीतेगी। हमें बहुमत का यह आंकड़ा खासकर बंगाल और ओडिशा के कारण हासिल होगा, क्योंकि दोनों राज्यों में भाजपा को बड़ी चुनावी सफलता मिलने जा रही है।
विजयवर्गीय ने लोकसभा चुनाव के दौरान बंगाल में हुई हिंसा को लेकर ममता बनर्जी नीत तृणमूल कांग्रेस सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि बंगाल में सबसे बड़ी परेशानी यह है कि वहां राज्य सरकार का प्रशासन, पुलिस और गुंडे, तीनों एक कतार में खड़े दिखाई देते हैं। इस सूबे के लोग ममता के तानाशाहीपूर्ण रवैये और उनके दल (तृणमूल कांग्रेस) के कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी से तंग आ चुके हैं। केंद्र में दोबारा नरेंद्र मोदी सरकार बनने का भरोसा जताते हुए भाजपा महासचिव ने कटाक्ष किया कि परिणामों की घोषणा के बाद ममता और चंद्रबाबू नायडू जैसे नेता छिप जाने वाले हैं और उनकी हार पर प्रतिक्रिया लेने के लिये मीडिया को उन्हें खोजना पड़ेगा।
मप्र मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दावा किया है कि कांग्रेस इस बार सूबे की 29 में से 22 लोकसभा सीटें जीतेगी। इस बारे में विजयवर्गीय ने कहा, अभी तो इसपर ही प्रश्नचिह्न है कि लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद वह (कमलनाथ) 22 दिन तक मुख्यमंत्री रहने वाले भी या नहीं। भाजपा महासचिव ने गत नवंबर में हुए विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की इस बहुचर्चित घोषणा पर भी निशाना साधा कि सूबे में कांग्रेस की सरकार बनने पर किसानों का कर्जा अगर 10 दिनों में माफ नहीं हुआ, तो वह मुख्यमंत्री को बदल दूंगा। विजयवर्गीय ने कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों का कर्जा अबतक माफ नहीं हुआ है। इसकारण गुस्साएं किसानों ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के विधायकों को गांवों में घुसने तक नहीं दिया।इसकारण राहुल ने जो कहा है, उसके मद्देनजर हो सकता है कि कांग्रेस के विधायक ही कुछ करें और मुख्यमंत्री को बदल दें।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *