लाखों की फसल बर्बाद, राजस्थान, गुजरात, ओडिशा और मध्‍य प्रदेश में आंधी-तूफान का कहर, 38 की मौत, दर्जनों घायल

नई दिल्ली, पूरे उत्तर और पश्चिम भारत में मंगलवार रात आए जबरदस्त तूफान ने भारी तबाही मचाई है। आंधी और बारिश के कारण अबतक 38 लोगों की मौत हुई है, जबकि दर्जनों लोग घायल हुए हैं। पश्चिमी विक्षोभ के कारण मौसम ने अपनी करवट बदल ली है। मौसम विभाग के अनुसार अगले चार दिनों तक मौसम ऐसा ही रहने वाला है। मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को दिन भर 60-70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं, वहीं दूसरे दिन यानी 18 अप्रैल को 50-60 किलोमीटर की गति से हवाएं चल सकती हैं। तेज हवाओं के साथ बारिश और बिजली गिरने की भी संभावना है।
19 अप्रैल को ओडिशा में इसका ज्यादा असर देखने को मिल सकता है। मौसम विभाग के अनुसार यहां 60-70 किलोमीटर प्रति घंटा हवाएं चलेंगी। वहीं 20 और 21 अप्रैल को ये हवाएं थोड़ा कमजोर पड़ेंगी। इन दो दिनों में भी रफ्तार करीब 50-60 किलोमीटर रहेंगीं। पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश और तेज हवाएं चलेंगी जिससे लोगों को गर्मी से राहत जरूर मिलेगी लेकिन फसलों को काफी नुकसान होगा। हवाएं पश्चिम से पूरब की ओर जाती है, इसलिए पश्चिम विक्षोभ का नाम दिया जाता है। राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश समेत देश के कई राज्यों के अनेक हिस्सों में ओले गिरने से फसलों को भी भारी नुकसान पहुंचा है।
मध्य प्रदेश में भी आंधी-तूफान ने भारी तबाही मचाई है। तूफान की वजह से हुए हादसों की वजह से 16 लोगों की मौत हो गई है, जबकि दो दर्जन से अधिक लोग घायल हुए हैं। इंदौर में 3, धार, सीहोर और खरगोन में 2, राजगढ़, रतलाम, झाबुआ और छिंदवाड़ा जिले एक-एक लोगों की मौत हुई है। मध्यप्रदेश के नीमच, मन्दसौर, राजगढ़, शाजापुर, सीहोर, भोपाल, गुना, विदिशा, भिंड, दतिया और अशोकनगर में तेज आंधी तूफान का अलर्ट जारी किया गया है।
तूफान के कहर ने गुजरात में भी भारी तबाही मचाई है। यहां आंधी और तूफान से 9 लोगों की मौत हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के अलग-अलग हिस्सों में भारी बारिश और तूफान में मारे गए लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपया मुआवजा देने की घोषणा की है। इसके अलावा घायलों को 50-50 हजार रुपए के मुआवजे का भी ऐलान किया गया है।
तूफान की वजह से राजस्थान में छह लोगों की मौत हो गई हैबारिश और ओलावृष्टि से जयपुर में पारा गिरकर 11.6 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। राजस्‍थान के ही चित्‍तौड़गढ़ में 22 मिलीमीटर बारिश हुई। राजस्‍थान में तूफान की वजह से छह लोगों के मारे जाने की खबर है। राज्य के झालावाड़ में चार बच्‍चों और उदयपुर में दो युवकों के मौत की पुष्टि हुई है। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि बुधवार और गुरूवार को भी पश्चिमी और पूर्वी राजस्‍थान में तेज हवाओं के साथ बारिश हो सकती है।
उधर, उत्‍तर प्रदेश में भी मंगलवार दोपहर शहर में तेज हवाओं के साथ बादलों की आवाजाही शुरू हो गई। इस दौरान पारे ने 10.5 डिग्री का गोता लगाया। इससे लोगों को गर्मी से काफी राहत मिली, हालांकि तेज हवाओं से लोगों को परेशानी भी हुई। वहीं, मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक, बुधवार दोपहर बाद राजधानी लखनऊ और उसके आसपास के इलाकों में बारिश और आंधी-तूफान के आसार हैं।
महाराष्ट्र में बेमौसम बरसात और बिजली गिरने से पिछले 2 दिनों में 7 लोगों के मारे जाने की खबर है। नासिक के सटाना में बिजली गिरने से पिंटू शिंदे की मौत हो गई है। वह अपने मवेशी चराने बाहर खेत में था। वहीं देवला वाजगाव हौसा कुंवर नाम की बुजुर्ग महिला की भी बिजली गिरने से मौत हुई है। हौसा बारिश में भीग रही अपनी बकरियों को छोडने घर के बाहर निकली थी। उधर परभणी में बिजली गिरने से 2 लोगों की मौत हो गई है। 40 भेडों की भी मौत हो गई है। इस घटना में अन्य एक धनगर गंभीर रुप से घायल हुआ है। परभणी के पाथरी गांव की यह घटना है। धनगर अपने भेडों को लेकर एक पेड के नीचे खडे थे। उसकी वक्त बिजली गिरने से यह हादसा हुआ।
पुणे के येडगांव में भोरवाडी में बिजली गिरने से महेश दशरथ भोर नाम के युवक की मौत हो गई है। महेश अपने आंगन में सो रहा था। जैसे बारिश शुरू हुई तो वह घर के अंदर जाते वक्त ही बिजली गिरी। उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। नाशिक के मालेगांव में तेज आंधी तूफान के चलते मालेगांव के कैम्प इलाके मे एक पेड गिरा। इस हादसे मे विकास अग्रवाल नाम के 50 साल के व्यक्ति की मौत हो गई। अन्य एक रिक्शा चालक घटना में गंभीर रूप से घायल हुआ है। अहमदनगर जिले के शिर्डी से कुछ दूरी पर संगमनेर तालुका के खराड़ी गांव में बालासाहेब निवत्ती साबले की मौत हो गई है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *