MP-UP और दिल्ली की करीब दर्जन भर सीटों पर प्रत्याशी तय करना भाजपा के लिए बना चुनौती

नई दिल्ली, लोकसभा चुनाव में विपक्षी गठबंधन, हाल के विधानसभा चुनावों में हार व अपने बुजुर्ग नेताओं को चुनाव मैदान से बाहर रखने के फैसले से भाजपा को उम्मीदवारों के चयन में कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। इसके चलते दिल्ली की सभी सीटों, मध्य प्रदेश की बड़ी सीटों व उत्तर प्रदेश की एक सीट का मामला अभी भी उलझा हुआ है। भाजपा ने सोमवार तक 420 सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। उसे अभी लगभग एक दर्जन और सीटों के लिए अपने उम्मीदवार तय करना बाकी है। इनमें सबसे ज्यादा पेंच दिल्ली में है, जहां भाजपा, कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के गठबंधन का इंतजार कर रही है। दिल्ली में विपक्ष का गठबंधन का मामला सुलट जाता तो भाजपा अभी तक अपने उम्मीदवार घोषित कर देती। कांग्रेस और ‘आप’ के एक साथ आने पर राज्य के समीकरण इन दोनों दलों के अलग-अलग लड़ने की स्थिति से एकदम अलग होंगे। ऐसे में उम्मीदवारों का चयन भी अलग तरह से होगा। भाजपा ने दोनों स्थितियों के लिए नाम तय कर रखे हैं, लेकिन उनकी घोषणा कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के फैसले के बाद ही लिया जाएगा। मध्य प्रदेश की 29 सीटों में से भाजपा ने 24 सीटों के लिए उम्मीदवार तय कर दिये हैं। 5 सीटों भोपाल, इंदौर, सागर, विदिशा व गुना के लिए उम्मीदवार तय किए जाने हैं। गुना कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ है। यहां पर प्रभावी उम्मीदवार खोज रही है। भोपाल में कांग्रेस से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के मैदान में आने से भाजपा को भी नया मजबूत चेहरा उतारना पड़ सकता है। इसके लिए उमा भारती व साध्वी प्रज्ञा के नाम चर्चा में हैं। इंदौर में सुमित्रा महाजन व विदिशा में सुषमा स्वराज के चुनाव न लड़ने से भाजपा को मजबूत उम्मीदवारों की तलाश है। सागर में भी मौजूदा सांसद के न लड़ने से मामला फंसा हुआ है। उत्तर प्रदेश की 80 सीटों में से दो सीटें अपना दल को देने के बाद भाजपा ने 77 सीटों के लिए नाम तय कर दिए हैं। एक मात्र घोसी सीट सहयोगी ओम प्रकाश राजभर के दबाव के चलते फंसी है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *