छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में भाजपा विधायक भीमा मंडावी की मौत, 5 जवान भी शहीद

दंतेवाड़ा, बस्तर लोकसभा सीट पर चुनाव से एक दिन पहले नक्सलियों ने एक बड़ी वारदात को अंजाम दिया है. आज शाम;करीब 4 से 5 बजे के बीच कुआंकोंडा के पास एक नक्सल हमले में भाजपा विधायक भीमा मंडावी की मौत हो गई.हमले में पांच जवानों के शहीद होने की भी खबर है. यह हमला वीआईपी मूवमेंट के दौरान हुआ है.
जानकारी के मुताबिक विधायक अपने समर्थकों के साथ कुआकोंडा थाना क्षेत्र के नकुलनार-बचेली के रास्ते से जा रहे थे तभी श्यामगिरी के पास नक्सलियों ने ब्लास्ट कर दिया. इस ब्लास्ट में काफिले की एक गाड़ी के चिथड़े उड़ गए. बताया जा रहा है कि ब्लास्ट इतना जबरदस्त था कि इसकी गूंज आस-पास के इलाके तक सुनाई दी. ब्लास्ट में विधायक के काफिले में शामिल जवानों के शहीद होने की खबर है, हालांकि जवानों के शहीद होने की पुष्टि अभी नहीं हो पाई है. डीआईजी ऐंटी नक्सल ऑपरेशंस पी। सुंदर राज के अनुसार, हमला दंतेवाड़ा जिले के कुआंकोडा इलाके में उस वक्त हुआ जब विधायक का काफिला यहां से गुजर रहा था। पता चला है की आईईडी ब्लास्ट करके नक्सलियों ने विधायक के काफिले में शामिल सुरक्षाबलों के एक वाहन को निशाना बनाया। हमले में बीजेपी विधायक भीमा मंडावी की कार और उनके एस्कॉर्ट वाहन के ब्लास्ट की चपेट में आने से 1 ड्राइवर और सुरक्षा ड्यूटी में तैनात 3 जवान शहीद हो गए।
हमले के बाद अधिकारियों ने तत्काल इलाके में सीआरपीएफ और राज्य पुलिस की टीमों को बड़ी संख्या में यहां पर भेजा है, जिसके बाद घटनास्थल के आसपास के इलाके को सीज कर दिया गया है। हमलावरों की तलाश में यहां पर सर्च ऑपरेशन भी चलाया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना की निंदा करते हुए शहीद जवानों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है। अपने ट्वीट में पीएम ने लिखा,’छत्तीसगढ़ में हुए माओवादी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। इस हमले में शहीद जवानों के परिवार के साथ मेरी पूरी संवेदना है और शहीदों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।’
छत्तीसगढ़ में इससे पहले भी कई बार नक्सली हमलावरों ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों को निशाना बनाया था। जुलाई 2018 में नक्सलियों ने छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में बीएसएफ के जवानों पर हमला किया था, इस हमले में बीएसएफ के 2 जवान शहीद हुए थे। इससे पहले 13 मार्च 2018 को राज्य के सुकमा जिले में सीआरपीएफ की 212वीं बटालियन के जवानों पर हमला हुआ था। IED लगाकर किए गए इस नक्सली हमले में सीआरपीएफ के 9 जवान शहीद हुए थे।
अब तक हुए बड़े नक्सली हमले
25 मई 2013 : छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में एक हजार से ज्यादा नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर हमला कर दिया। इस हादसे में कांग्रेस नेता विद्याचरण शुक्ल, महेंद्र कर्मा और नंदकुमार पटेल समेत 25 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए।
6 अप्रैल 2010: दंतेवाड़ा जिले के चिंतलनार जंगल में नक्सलियों ने सीआरपीएफ के 75 जवानों सहित 76 लोगों की हत्या कर दी।
4 अप्रैल 2010: ओडिशा के कोरापुट जिले में पुलिस की एक बस पर हमला, विशेष कार्य दल के 10 जवान मरे, 16 घायल।
23 मार्च 2010: बिहार के गया जिले में रेलवे लाइन पर विस्फोट करके भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस को पटरी से उतारा। इसी दिन ओडिशा की रेलवे पटरी पर हमला करके हावड़ा-मुंबई लाइन क्षतिग्रस्त की।
15 फरवरी 2010: पश्चिम बंगाल के सिल्दा में करीब 100 नक्सलियों ने पुलिस कैंप पर हमला करके 24 जवानों की हत्या की, हथियार लूटे।
8 अक्टूबर 2009: महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में लाहिड़ी पुलिस थाने पर हमला करके 17 पुलिसवालों की हत्या की।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *