प्रियंका का स्‍टीमर से चुनावी प्रचार, चौकीदार गरीबों के नहीं अमीरों के होते हैं,लोगों के लिए काम आये ऐसी सरकार चुनें

प्रयागराज,लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने पूरी तरह कमर कस ली है। इसी कड़ी में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने आज से गंगा यात्रा शुरू कर दी है। वह रविवार रात में अपनी दादी के घर स्वराज भवन में रुकीं। सुबह 9.30 बजे प्रियंका गंगा यात्रा के लिए स्वराज भवन से निकलीं। प्रियंका गांधी सबसे पहले संगम क्षेत्र स्थित बड़े हनुमान मंदिर पहुंची और वहां हनुमान जी का दर्शन कर उनकी आरती उतारी। इसके बाद उन्होंने किला स्थित अक्षयवट और सरस्वती कूप का दर्शन किया फिर संगम पहुंचीं। संगम में त्रिवेणी की आरती उतार कर उन्होंने मां गंगा का आशीष लिया और वहां से नाव पर बैठकर गंगा के पास अरैल गईं। अरैल में कार से वह करछना के मनैया घाट पहुंची। वहां से वह मोटरबोट में सवार होकर गंगा यात्रा शुरू कर दी।
जल यात्रा के दौरान सांची बात में प्रियंका ने कहा की केंद्र की मोदी सरकार ने पिछले पांच साल में कुछ नहीं किया, जीएसटी लागू कर कारोबार ठप किया किसान बेहाल है और देश में तेजी से बेरोजगारी बढ़ी है। प्रियंका ने कहा कि अब ऐसी सरकार चुनिए जो लोगों का ख्याल रखे और उनकी सुने। प्रियंका ने मैं चोकीदार कैंपेन पर तंज कस्ते हुए कहा की चौकीदार तो आमिर लोग रखते है गरीबों को इसकी क्या जरुरत। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता किशोर ने बताया कि स्टीमर से प्रियंका दुमदुमा, सिरसा, लाक्षागृह, महेवा, कौंधियारा में स्थानीय लोगों से मिलेंगी। दौरे के पहले दिन प्रियंका पुलवामा के शहीद महेश यादव के परिजनों से मिलने मेजा स्थित बदल का पुरवा गांव जाएंगी। प्रियंका सीतामढ़ी में रात्रि विश्राम करेंगी। रविवार को यात्रा की तैयारियों के मद्देनजर एसपीजी, प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों और पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने दूसरे दिन भी पूरे रूट का दौरा किया। दोनों टीमें अलग-अलग सीतामढ़ी तक गईं। जिला और शहर कांग्रेस कार्यालय में देर रात तक यात्रा की तैयारी चलती रही। गंगायात्रा को सफल बनाने के लिए सोनिया गांधी के सचिव केएल शर्मा और जुबैर खान दो दिन से प्रयागराज में सभी तैयारियों को देख रहे हैं। बता दें कि प्रियंका गांधी ने आज (सोमवार) प्रयागराज से अपनी 3 दिनी गंगा यात्रा की शुरुआत नाव से की। 140 किमी लंबी यह गंगा यात्रा स्‍टीमर बोट के जरिए प्रयागराज के छतनाग से वाराणसी के अस्‍सी घाट तक होगी। वह 20 मार्च को वाराणसी पहुंचेंगी।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *