बीकानेर जमीन खरीदी मामले में अपनी मां मौरीन वाड्रा के साथ 12 को जयपुर में ईडी के सामने पेश होंगे रॉबर्ट वाड्रा

जयपुर, रॉबर्ट वाड्रा बीकानेर जमीन खरीदी मामले में प्रवर्तन निदेशालय के सामने पेश होने वाले है। ये मामला राजस्थान के बीकानेर में जमीन खरीद मामले से जुड़ा है। इस केस में रॉबर्ट वाड्रा और उनकी मां मौरीन वाड्रा जयपुर के प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर में 12 फरवरी को पेश होने को कहा गया है। राजस्थान हाईकोर्ट जोधपुर के आदेश पर वाड्रा ईडी से पूछताछ के लिए जयपुर आ रहे हैं। प्रवर्तन निदेशालय का कहना है कि नवंबर, 2018 तक वाड्रा को पूछताछ के लिए तीन बार नोटिस भेजा गया था लेकिन वाड्रा पेश नहीं हुए थे। रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी की तरफ से जोधपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी जिस पर सुनवाई करते हुए 21 जनवरी को हाईकोर्ट ने कहा था कि वाड्रा के ऊपर किसी भी कार्रवाई जबर्दस्ती नहीं होगी। लेकिन वाड्रा को 12 फरवरी को ईडी के सामने पूछताछ के लिए उन्हें पेश होना होगा। सिंगल जज पीएस भाटी की बेंच ने कहा था कि वाड्रा के किसी भी तरह की गिरफ्तारी पर रोक जारी रहेगी। कोर्ट ने कहा था कि अगर ईडी को किसी तरह की गिरफ्तारी करनी है तो दुबारा कोर्ट में याचिका दे सकती है।
वाड्रा की कंपनी के खिलाफ ईडी में एक शिकायत दर्ज की गई थी। जिसमें वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी ने गलत तरीके से बीकानेर के कोलायत में 275 बीघा जमीन खरीदी है। इसमें आरोप लगाया गया था कि यह संपत्ति बेनामी खरीदी गई है। शिकायतकर्ता ने कहा था कि इस डील में बिचौलिया महेश नागर के ड्राइवर के नाम से भी जमीनें हैं। स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी में रॉबर्ट वाड्रा और उनकी मां मुरीन वाड्रा को डायरेक्टर बताया गया है। हालांकि इस मामले में राजस्थान सरकार ने भी जांच टीम बनाई थी लेकिन 5 सालों में वसुंधरा सरकार ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की थी।
बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग केस में रॉबर्ट वाड्रा से ईडी ने बुधवार और गुरुवार को लगातार दो दिन तक पूछताछ की। ये केस लंदन स्थित 12 ब्रायनस्टोन स्क्वायर में मौजूद फ्लैट का है। आरोप है कि इस उन्होंने अवैध तरीके से खरीदा है। यह प्रॉपर्टी 19 लाख पाउंड में खरीदी गई है और इसका मालिकाना रॉबर्ट वाड्रा के पास है। इस मामले में शनिवार को उन्हें एक बार फिर ईडी के सामने पेश होना है। इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी प्रेसवार्ता कर रॉबर्ट वाड्रा का जिक्र करते हुए कहा कि पीएम रॉबर्ट वाड्रा हों या पी चिदंबरम, जिसकी चाहे जांच करवा लें, लेकिन राफेल मुद्दे पर उन्हें जवाब देना ही पड़ेगा।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *