ममता का धरना खत्म,बोलीं मोदी दिल्ली से इस्तीफा देकर गुजरात वापस लौट जाएं

कोलकाता, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपना धरना खत्म कर दिया है। बनर्जी चिटफंड घोटाले को लेकर सीबीआई और कोलकाता पुलिस के बीच पैदा हुई उठापटक के बाद दो दिन पूर्व धरने पर बैठीं थीं।
धरने के दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि मोदी दिल्ली से इस्तीफा देकर गुजरात वापस लौट जाएं, दिल्ली में एक आदमी की सरकार है, एक पार्टी की सरकार चल रही है।
ममता बनर्जी ने कहा, ‘यह धरना भारत के लोकतंत्र और संविधान की जीत है। इसी वजह से हमने इसे आज समाप्त कर दिया।’ ममता के धरने की समाप्ति की घोषणा के वक्त मंच पर महागठबंधन में शामिल विपक्ष के नेता और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू नजर भी आए।
ममता ने कहा, ‘कोर्ट ने आज एक सकारात्मक जजमेंट दिया है। अगले हफ्ते, इस मुद्दे को हम दिल्ली में उठाएंगे।’ उन्होंने यह भी कहा कि वे (केंद्र सरकार) राज्य की एजेंसियों समेत सभी पर नियंत्रण चाहते हैं?
ममता ने चंद्रबाबू नायडू की अपील के बाद अपना धरना खत्म कर दिया। उन्होंने कहा ‘हम साथ मिलकर लड़ेगे तो वह लड़ाई भी बड़ी होगी और हम जीतेंगे भी। मैं अपने सभी सहयोगी राजनीतिक पार्टियों को शुक्रिया अदा करती हूं। मैं सभी राजनीतिक पार्टी के अनुरोध के बाद अपना धरना खत्म कर रही हूं। मैनें पहले भी बड़ी बड़ी लड़ाई लड़ी है इसलिए मुझे इस धरने को जारी रखने में दिक्कत नहीं थी। लेकिन यह लड़ाई लोकतंत्र को बचाने की है।’
केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ ममता बनर्जी की बग़ावत को कांग्रेस, सपा, बसपा, आरजेडी समेत कई पार्टियों का समर्थन मिला। सोमवार को आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और डीएमके नेता कनिमोई कोलकाता पहुंचकर ममता के धरने में शामिल हुए और मोदी सरकार पर हमला बोला। वहीं, CBI बनाम ममता सरकार मामले में CBI की दो अर्ज़ियों पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की। चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस संजीव खन्ना की बेंच ने सुनवाई के दौरान कहा कि पुलिस कमिश्नर की गिरफ्तारी नहीं होगी। हालांकि, कोर्ट ने राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश दिया। सोमवार को CBI की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल ने कोर्ट में दावा किया कि सारदा चिटफंड मामले में कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार सबूत के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *