वसुंधरा का फैसला गहलोत ने पलटा ,राजीव के नाम पर रखा जाएगा अटल सेवा केंद्र का नाम

जयपुर, राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा शुरू किए गए अटल सेवा केंद्रों का नाम बदल कर राजीव सेवा केंद्र कर दिया है। ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। ज्ञात हो कि एक निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा ने पूर्ववर्ती वसुंधरा राजे सरकार के इस निर्णय के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। जिसके बाद हाईकोर्ट ने अटल सेवा केंद्र का नाम बदलकर राजीव गांधी सेवा केंद्र करने के आदेश दिया। हाईकोर्ट ने 19 जनवरी 21018 को केद्रों नाम बदलने को कहा था, लेकिन उस समय की वसुंधरा सरकार ने नाम नहीं बदला था। राज्य में एक बार फिर कांग्रेस की सरकार बनने के बाद इसका नाम बदलने का आदेश जारी कर दिया गया है। इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा में कहा था कि राज्य में अटल सेवा केंद्र का नाम फिर से राजीव सेवा केंद्र किया जाएगा।
गहलोत ने निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा की ओर से स्थगन प्रस्ताव के तहत उठाए इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए कहा था कि इसके लिए पहले ही निर्देश दे दिए गए हैं और न्यायालय के आदेशानुसार प्रदेश में अटल सेवा केंद्रों का नाम बदलकर फिर राजीव सेवा केंद्र कर दिया जाएगा। गहलोत ने सदन में कहा था कि नाम बदलने का कोई औचित्य नहीं था, लेकिन भाजपा की केंद्र या राज्य सरकार ने पांच वर्ष में केवल नाम बदलने का काम ही किया है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा था कि हमारी भावना थी कि हम इन सेवा केंद्रों का नाम दोनों महान शख्सियतों को समर्पित करते हुए राजीव गांधी अटल सेवा केंद्र रखें, लेकिन हाईकोर्ट के आदेश पर अब इनका नामकरण राजीव गांधी सेवा केंद्र ही किया जाएगा।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *