मुझे ऊंचाइयों तक पहुंचाने में बिलासपुर का अहम योगदान- महंत

बिलासपुर,मेरी ऊंंचाई में बिलासपुर की हवा-पानी-संस्कृति का अहम योगदान है। मैं जो कुछ भी उसमें बिलासपुर का अहम योगदान है। महंत ने बताया कि सभी सदस्यों को सदन में बोलने का अवसर मिलेगा। प्रयास किया जाएगा कि आने वाले समय में विधानसभा की गतिविधियों का प्रसारण हो। इसके लिए प्रयास भी किए जा रहे हैं। उक्ताशय की बातें आज प्रेस क्लब में पत्रकारों से चर्चा के दौरान विधानसभा अध्यक्ष डा.चरणदास महंत ने कही। कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रेस क्लब अध्यक्ष ने श्री महंत का स्वागत किया। जवाब-सवाल के पहले डॉ.महंत ने कहा कि स्वागत से अभीभूत हूं। मेरा जितना भी कद है उसे बनाने में बिलासपुर की हवा-पानी, सभ्यता संस्कृति और यहां के लोगों का अहम योगदान है। मैं बिलासपुर से अपने आपको अलग कर देख ही नहीं सकता हूं।
सवाल जवाब का मिलेगा भरपूर मौका
पिछली सरकार में आपकी शिकायत थी कि सत्र जान-बूझकर छोटा किया जा रहा है। सदस्यों और खासकर विपक्ष को बोलने का अवसर नहीं दिया जाता है। इस शिकायत को आप कैसे दूर करेंगे। क्योंकि शिकायत करने वाले भी आप ही लोग थे। डॉ.महंत ने कहा कि यह सच है कि पिछली सरकार में विधायकों खासकर विपक्ष के सदस्यों को बोलने का अवसर नहीं दिया जाता था। कांग्रेस नेताओं को तो बिल्कुल भी नहीं। सत्र भी छोटा रखा जाता था। कम से कम मेरे कार्यकाल में ऐसा नहीं होगा। ८ फरवरी से ८ मार्च के बीच २४ दिन का विधानसभा सत्र है। सभी को बराबर समय दिया जाएगा। पिछली शिकायतों की पुनरावृत्ति नहीं होगी। किसी के साथ भेदभाव भी नहीं किया जाएगा। क्योंकि पिछली सरकार ने विधायकों को किसान,युवा, महिलाओं, गरीबी,व्यापारियों के मुद्दों को भरसक दबाया। जबकि चुन कर पहुंचे सदस्यों का काम ही समस्याओं को सदन में रखना है। लेकिन ऐसा नहीं करने दिया गया। अब शिकायत नहीं रहेगी। ज्यादा से ज्यादा सवाल आएंगे, और ज्यादा से ज्यादा उत्तर भी मिलेगा।
प्रसारण की करेंगे व्यवस्था
क्या लोकसभा और राज्य सभा की तर्ज पर छत्तीसगढ़ विधानसभा का भी लाइव होगा। अपना कोई टेलीविजन होगा। डॉ.महंत ने कहा कि प्रयास किया जाएगा कि लोकसभा और राज्यसभा की तर्ज पर छत्तीसगढ़ विधानसभा की कार्रवाइयों का सीधा प्रसारण हो। इसके लिए हम सही जगह और सही लोगों से बातचीत भी करेंगे। कार्रवाई में पारदर्शिता होने से सदन की मर्यादा भी बनी रहेगी। जनता भी देखेगी कि उनके चुने हुए सदस्य क्या काम-काज कर रहे हैं।
आगामी चुनाव को लेकर कांग्रेस की क्या रणनीति है के सवाल पर महंत ने कहा मुझे पार्टी की रणनीति नहीं मालूम। लेकिन इतना तो तय है कि हमारी पार्टी लोकसभा चुनाव की तैयारी जोरों पर कर रही है। पिछले विधानसभा अध्यक्ष के घर में ४८ एसी लगे थे। क्या आप फिजूलखर्ची पर रोक लगाएंगे। पूछे जाने पर महंत ने कहा कि फिजूल खर्जी पर रोक लगना ही चाहिए। किसी प्रकार की फिजूल खर्ची का समर्थक नहीं हूं। उन्होंने कहा कि अभी तक रिकार्ड रहा है कि विधानसभा अध्यक्ष बनने वाले की हार होती है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *