जगद्गुरू स्वामी स्वरूपानंद का ऐलान, गर्भगृह में होगा राम मंदिर का शिलान्यास

जबलपुर, द्विपीठाधीश्वर जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद महाराज ने अपने अमृत प्रवचन में कहा कि कुंभ मेले में आयोजित धर्मसंसद के बाद अयोध्या जाकर राममंदिर का शिलान्यास करेंगे। राममंदिर का शिलान्यास भगवान राम के गर्भगृह में ही किया ही जाएगा। सरकार चाहे कुछ भी करे हम शिलान्यास करेंगे।
महाराज श्री गुरुवार को मानस भवन में आयोजित अपने 71 वें दीक्षा समारोह में प्रवचन दे रहे थे। महाराज श्री सिंह ने अपने प्रवचन में कहा कि राममंदिर राजनैतिक मुद्दा नहीं है, यह सनातन आस्था से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि विश्व हिन्दू परिषद ने राममंदिर का शिलान्यास नहीं किया था बल्कि परिषद ने गृभस्थल से 192 फुट दूरी पर सिंह द्वार का शिलान्यास किया था। महाराजश्री ने कहा कि वे शुक्रवार को प्रयागराज में आयोजित कुंभ मेले के गमन करेंगे। कुंभ में धर्मसंसद का आयोजन किया गया है। धर्मसंसद के बाद अयोध्या जाएंगे। जहां भगवान राम के गर्भगृह में मंदिर निर्माण का शिलान्यास करेंगे।
यह शिलान्यास प्रयाग कुंभ में धर्मसंसद के बाद साधु संतों की अगुवाई में माघ पूर्णिमा के दूसरे दिन यानि 20 फरवरी 2019 को संभावित है। केन्द्र सरकार और विश्व हिन्दू परिषद पर तंज करते हुये शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने कहा कि देश की जनता की भावना और सनातन धर्म की परम्परा के अनुरूप चाल शिला रखकर गर्भगृह के आग्नेय कोण में शिलान्यास होगा। हम सभी वहां इसे संपन्न करेंगे। उन्होंने बड़े साफ शब्दों में कहा कि सरकार ने रोका या गिरफ्तार किया तो उसके लिये भी तैयार है।
अपने प्रवचन में आगे कहा कि मंदिर और धर्म के मामले से सरकार को दूर रहना चाहिये। शंकराचार्य जी ने कहा कि यह सनातन आस्था का विषय है। मुस्लिम सुन्नी बोर्ड की मांग उचित नहीं है। वह भूमि राम जन्मभूमि है, इसलिये वहां राम मंदिर बनेगा।
समाज में व्याप्त कुरीतियों और विकृति पर भी उन्होंने कहा कि देश में विश्वबंधुत्व के विचार का पोषण करता रहा है। आगे भी वह इसी विचार को आगे बढाता रहेगा। इसके पूर्व कार्यक्रम में जगद्गुरू का पादुकापूजन किया गया। उनके शिष्य विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सपत्नीक उपस्थित रहे। इन नेताओं ने अपने वक्तव्य में महाराजश्री की साधना, त्याग, तपस्या और मानव कल्याण के कार्यों की प्रशंसा की। देश को उनका आशीर्वाद मिलता रहे यह कामना की।
स्थानीय मानस भवन में महाराज श्री के 71 वें दीक्षा समारोह के अवसर पर भव्य आयोजन किया गया था। धर्म गुरुओं, राजनेताओं के अलावा भारी संख्या में शृद्धालुगण मौजूद रहे। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, उनकी धर्मपत्नी अमृता राय एवं मप्र विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति आदि विशेष रुप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम क संचालन वरिष्ठ पत्रकार अजित वर्मा ने किया।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *