मन की बात में PM मोदी ने कहा नववर्ष बेरोजगारी, जातिवाद और सांप्रदायिकता के खात्मे का होगा

नई दिल्ली, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सन 2017 के आखिरी दिन देशवासियों के साथ ‘मन की बात’ साझा करते हुए नए साल की शुभकामनाएं दी और वायदा किया कि नए साल में हम नई बात करेंगे। आज के कार्यक्रम में उनका मुख्य जोर नए भारत पर केंद्रित रहा। प्रधानमंत्री मोदी ने उम्मीद जताई कि अगला साल जातिवाद, सांप्रदायिकता, आतंकवाद, भ्रष्‍टचार, गंदगी और गरीबी के जहर से मुक्‍त होगा। उन्होने कहा कि नए साल में हमारे सामने कुछ चुनौतियां हैं। हमें अपनी आर्थिक प्रगति की रफ्तार को तेज करना है। विनिर्माण को गति देनी है। साथ ही रोजगार के अवसर निर्मित करने हैं।
उन्होंने तीन तलाक के साथ ही मुस्लिम महिलाओं को ‘महरम’ से आजादी मिलने का भी जिक्र किया। इस प्रथा के तहत हज यात्रा के दौरान मुस्लिम महिलाओं को बिना किसी पुरुष सदस्‍य के जाने की इजाजत नहीं थी। मगर अब वह जा सकती हैं। 2017 के आखिरी दिन के साथ ही ‘मन की बात’ कार्यक्रम का भी इस वर्ष का आखिरी दिन था। पीएम मोदी ने कहा कि ‘मन की बात’ का इस वर्ष का यह आखिरी कार्यक्रम है और संयोग देखिए कि आज, वर्ष 2017 का भी आखिरी दिन है। इस पूरे वर्ष बहुत सारी बातें हमने और आपने साझा की। विचारों का ये आदान-प्रदान, मेरे लिए हमेशा नई ऊर्जा लेकर आता है।
पीएम मोदी ने कहा कि एक जनवरी का दिन विशेष है। जो लोग 21 सदी में जन्में हैं, वे मतदाता बन जाएंगे। भारतीय लोकतंत्र 21 वीं सदी के वोटरों का स्वागत करता है। पीएम मोदी ने कहा कि मन की बात कार्यक्रम में मैं देश के युवाओं से बात करना चाहता हूं। उन्‍होंने कहा, ‘युवा आगे आएं और मंथन करें कि कैसे बनेगा न्यू इंडिया। मेरा विश्वास है कि हमारे ऊर्जावान युवाओं के कौशल और ताकत से ही न्‍यू इंडिया का सपना सच होगा।
पीएम मोदी ने यह भी कहा कि लोगों से बातचीत के दौरान मुझे यह आइडिया मिला है कि क्‍या हम भारत के हर जिले में ‘मॉक पार्लियामेंट’ आयोजित कर सकते हैं? यह 15 अगस्‍त के आस-पास होना चाहिए।
पीएम मोदी के अनुरोध पर बड़ी संख्‍या में लोगों की प्रतिक्रियाएं सामने आईं। उन्‍होंने कहा उत्साह से भरा व्यक्ति अत्यन्त बलशाली होता है। पॉजिटिविटी और उत्साह से भरे व्यक्ति के लिए कुछ भी असंभव नहीं। मुझे बहुत खुशी हुई कि भारी संख्या में लोगों ने सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया दी। पीएम मोदी ने बताया कि कुछ देशवासियों ने इस वर्ष के उन घटनाक्रमों को साझा किया, जिनका उनके मन पर विशेष प्रभाव पड़ा, सकारात्मक प्रभाव पड़ा। कुछ लोगों ने अपनी व्यक्तिगत उपलब्धियों को भी शेयर किया। पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ में देश को पूरी तरह से स्‍वच्‍छ बनाने पर भी जोर दिया। उन्‍होंने कहा कि पूज्‍य बापू के अधुरे काम गंदगी से मुक्‍त भारत को हमें पूरा करना है। यह भी कहा कि स्‍वच्‍छता केवल सरकार करे एेसा नहीं है, यह नागरिकों की भी जिम्‍मेदारी है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *