महापौर ने इंदौरी पहलवान के लिए मांगा “पद्मश्री अवार्ड”

इन्दौर, मध्यप्रदेश के विख्यात पहलवान कृपाशंकर पटेल बिश्नोई को अर्जुन और विक्रम पुरस्कार के बाद चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री देने की मांग उठने लगी है। कुश्ती में देश का नाम दुनिया में रोशन करने वाले इंदौर के इस पहलवान को पद्मश्री अवॉर्ड से माम्मानित करने की अनुशंसा इंदौर की महापौर श्रीमती मालिनी लक्ष्मणसिंह गौड़ ने की है। इस मुहिम की शुरुआत करते हुए उन्होने भारत सरकार के गृह मंत्रालय को भेजे गये पत्र में पहलवान कृपाशंकर की अनुशंसा करते हुए कहा है की कुश्ती खेल में इन्होने अपने उत्कर्ष्ठ प्रदर्शन से देश-विदेश में भारत को गौरवान्वित किया है। वर्तमान में भारतीय महिला कुश्ती को प्रबल बनाने का कार्य कर रहे है। दंगल फिल्म में कलाकारों को कुश्ती सिखा चुके है। दंगल फिल्म के बाद महिला कुश्ती को लेकर देश में क्रान्ति आ गई है। महिला कुश्ती की स्थिति में भीषण बदलाव आया। महिलाओं के प्रति लोगों की सोच बदलने लगी थी।
हर साल सरकार देश में अच्छा काम करने वालों को पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित करती है। इसके लिए इंदौर से कई लोगों ने अपने काम और उपलब्धि के आधार पर दावा किया है, जिसमें कुश्ती खिलाड़ी कृपाशंकर पटेल ने जिला प्रशासन को अवॉर्ड के लिए प्रदेश सरकार के जरिए भारत सरकार के गृह मंत्रालय को अनुशंसा करने का आग्रह किया है। इसको लेकर जिला प्रशासन ने भी पहलवान कृपाशंकर की अनुशंसा की है। जिला प्रशासन को दिए गए आवेदन अनुसार अब तक वे खेल के लिए दिए जाने वाले विक्रम व अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित हो चुके हैं। इसके साथ ही कृपाशंकर बॉलीवुड मूवी दंगल के लिए आमिर खान के सात सात अन्य कलाकारों को भी प्रशिक्षण दे चुके है। यह फिल्म महिलाओं को सशक्त बनाने और भारत में कुश्ती को बढ़ावा देने में मददगार साबित हुई है, दंगल परियोजना में आमिर खान प्रोडेक्शन के साथ मिलकर उन्होंने 14 महीने तक कुश्ती सिखाने का कार्य किया है। साथ ही कुश्ती द्र्श्यो की कोरियोग्राफी और बाउट कम्पोजिंग का कार्य भी किया है। दंगल केवल भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्म बन गई हैं, चीनी राष्ट्रपति श्री शी जिनपिंग ने भी फिल्म देखी और माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के साथ मुलाकात के दौरान उन्होंने फिल्म में कुश्ती द्रश्यो की सराहना भी की है। हालांकि फिल्म के बाद महिलाओं का कुश्ती के प्रति देश में नजरिया बदला है। कृपा को अमेरिका, कनाड़ा सहित कई युरोपियन देशों से कोच के लिए ऑफर भी आए हैं।
:: भारतीय महिला कुश्ती टीम के कोच ::
महिला कुश्ती को बढ़ावा देने में उनका योगदान है। पटेल के मुताबिक वे पिछले 6 सालों से महिला कुश्ती के उत्थान के लिए काम कर रहे हैं। भारतीय महिला कुश्ती टीम के कोच रहे हैं। पिछले 6 सालों से राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में उनके मार्गदर्शन व प्रशिक्षण से साक्षी मलिक ने 2016 रियो ओलंपिक महिला कुश्ती में भारत का पहला ओलंपिक पदक जीता है।
सीनियर और कैडेट महिला राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में उनके प्रशिक्षण के तहत, भारतीय महिला कुश्ती दल ने सबसे अधिक पदक वर्ष 2009 में (4 स्वर्ण, 1 रजत और 3 कांस्य) जीतकर उस समय चैंपियन जापान को हराकर पहली बार कैडेट चैम्पियनशिप जीती। सितंबर 2016 (जॉर्जिया) में आयोजित विश्व कैडेट महिला कुश्ती चैम्पियनशिप में पहली बार भारतीय महिला पहलवान ने स्वर्ण पदक जिता। 2013 में राष्ट्रमंडल कुश्ती में भारतीय टीम ने 2 स्वर्ण, 4 रजत और 5 कांस्य जीते। इसके अलावा ग्लासगो राष्ट्रमंडल खेलों में 2016 भारतीय महिला कुश्ती टीम ने आपसे प्रशिक्षण प्राप्त कर 2 स्वर्ण, 3 रजत और 1 कांस्य जीतकर ऐतिहासिक रूप से प्रदर्शन किया।
:: अभी तक कुल 36 गोल्ड, 19 सिल्वर और 12 ब्राउंस जीते ::
1988 में अपनी पहली प्रतियोगिता 12 साल की उम्र में जीती और उसके बाद नहीं रुके, उन्होंने अनगिनत अंतरराष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में भाग लिया और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अब तक 11 स्वर्ण, 8 रजत और 5 कांस्य पदक जीते हैं। भारतीय कुश्ती में कृपाशंकर एकमात्र भारतीय पहलवान है जो वर्ष 1989 से 2010 तक कुल 21 वर्षों के लम्बे समय तक लगातार अंतरराष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में भारत का प्रतिनिधित्व करते रहे साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर, उन्होंने 25 स्वर्ण, 11 रजत और 7 कांस्य पदक जीतकर एक राष्ट्रीय कीर्तिमा बनाया। उनका दावा है कि वह दुनिया का पहला ऐसा कीर्तिमानधारी पहलवान है जो 2005 दक्षिण अफ्रीका राष्ट्रमंडल कुश्ती के दौरान दो अलग-अलग शैलियों (ग्रीको और फ्री स्टाइल) कुश्ती में स्वर्ण पदक जीता है। पटेल एकमात्र भारतीय पहलवान हैं जिन्होंने दक्षिण एशियाई खेलों में सर्वाधिक पदक जीते हैं, वर्ष 1995 में भारत, 1999 में नेपाल और 2004 में पाकिस्तान में कुल 3 स्वर्ण पदक जीतकर एक सुपर हैट्रिक बनाने का कारनामा किया है, एसा करने वाले वो पहले एकमात्र भारतीय पहलवान है। राष्ट्रमंडल कुश्ती में सबसे ज्यादा पदक हासिल करने वाले इस पहलवान के पास 3 स्वर्ण, 2 रजत और 1 कांस्य पदक है। श्री पटेल ने केडेट विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में 1 रजत और 1 कांस्य पदक भी जीता है। कुश्ती के क्षेत्र में अपने असाधारण प्रदर्शन के लिए उन्हें वर्ष 2000 में महामहिम राष्ट्रपति द्वारा सर्वश्रेष्ठ खेल पुरस्कार “अर्जुन अवार्ड” और वर्ष 1994 में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा “विक्रम पुरस्कार” से सम्मानित किया जा चुका है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *