मुंबई में 2 करोड़ की ऑनलाइन ठगी, पुलिस ने 108 फर्जी बैंक अकाउंट का लगाया पता

मुंबई, मुंबई में एक बुजुर्ग के साथ करीब दो करोड़ रुपए के ठगी के मामले में साइबर क्राइम पुलिस ने एक नाइजीरियन गैंग का पर्दाफाश किया है. साथ ही पुलिस ने नकली पैन कार्ड के जरिए मुंबई के कई बैंकों में खुलवाए गए 108 फर्जी अकाउंट का पता लगाया है. इस सबंध में मुंबई से सटे मीरा रोड स्थित नया नगर से नकली पैन कार्ड बनाने वाले गिरोह के सरगना को गिरफ्तार किया है और सभी बैंक अकाउंट को फ्रीज कर दिया गया है. गैंग से कई फर्जी पैन कार्ड भी बरामद हुए हैं. पुलिस ने बताया कि बांद्रा के रहने वाले 72 वर्षीय शख्स को अमेरिका के एक फेसबुक फ्रेंड ने अफगानिस्तान की एक निवेश परियोजना में अच्छा-खासा फायदा होने का लालच देकर ठगा था. इस मामले की जांच करते हुए पुलिस दिल्ली पहुंच गई, जहां उन लोगों को गिरफ्तार किया गया जिनके बैंक अकाउंट में पीडि़त बुजुर्ग ने भारी-भरकम रकम भेजी थी. मगर पैसों को या तो तुरंत निकाल लिया गया या दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया गया. पूछताछ के दौरान पता चला कि गैंग ने मुंबई और दिल्ली के कई बैंकों में फर्जी अकाउंट खुलवाया था. ज्यादातर मुख्य रूप से पैन कार्ड के आधार पर खोले गए थे, मगर जांच की गई तो सभी नकली निकले। इसके बाद मुंबई में इस तरह के पैन कार्ड बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हुआ. पुलिस के मुताबिक, फ्रीज किए गए सभी अकाउंटों में कुल एक करोड़ रुपए थे. जांच में पुलिस ने मंगल बिश्नोई, अमित अग्रवाल, समीर मर्चेंट, जितेंद्र राठोड़ और परेश निस्बंध नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया है. बांद्रा निवासी ने इन्हीं लोगों के खातों में पैसे ट्रांस्फर किए थे. इनके खातों में ट्रांस्फर होने के बाद, पैसा निकाल लिया गया या फिर दूसरे फर्जी खातों मे ट्रांस्फर कर दिया गया था। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि जांच में पता चला कि खाता खुलवाने के लिए दिए गए पैन कार्ड फर्जी थे. मामले की आगे जांच में आरिफ शेख नाम के एक शख्स को भी गिरफ्तार किया. उसके पास से कई कागजात और 11 पैन कार्ड बरामद किए गए.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *