सेटेलाइट से होगी अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा

नयी दिल्ली,अमरनाथ यात्रा पर आतंकी खतरे के मद्देनज़र इस वर्ष सेटेलाइट ट्रैकिंग सिस्टम से नज़र रखी जाएगी । इसके अलावा बुलेट प्रूफ टेंट भी लगाए गए हैं। कैम्पों में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं जबकि यात्रा मार्ग पर ड्रोन से नजर रखी जाएगी। इस बीच यात्रियों का पहला जत्था जम्मू कश्मीर के पहलगाम के समीप स्थित नुनवन बेस कैंप पहुंच गया है।
प्रधानमंत्री कार्यालय के राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने एक समाचार चैनल से कहा कि “यह यात्रा सिर्फ हिंदुओं की नहीं है। इसको सफल बनाना भी सिर्फ सुरक्षा एजेंसियों का काम नहीं है बल्कि हम सबका है। यह यात्रा हिंदुस्तान की मिलीजुली तहजीब की प्रतीक है क्योंकि यात्री हिंदू होते हैं और मेजबानी दूसरे समुदाय के लोग करते हैं।”
जितेंद्र सिंह के मुताबिक़ खतरे को देखते हुए यात्रा की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने कहा कि “खुद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कई बैठकें कीं। साथ ही जम्मू-कश्मीर प्रशासन की मांग पर इस साल दोगुने सुरक्षा बल यात्रा के लिए तैनात किए गए हैं।”
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पिछले साल सुरक्षा बलों की 115 कम्पनियां यात्रा के लिए तैनात की थीं। इस साल इनकी संख्या दोगुनी है। इस साल मंत्रालय ने 210 कम्पनियां यात्रा के दौरान सुरक्षा के लिए तैनात की हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय के मुताबिक पिछले साल के मुकाबले यात्रियों के रजिस्ट्रेशन में 6 से 10 फीसदी की गिरावट आई है। अब तक 2।30 लाख यात्री रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। अमरनाथ यात्रियों का पहला जत्था बुधवार को जम्मू के भगवती नगर में स्थित बेस कैंप से रवाना हुआ। इस जत्थे में 2280 तीर्थयात्री शामिल हैं। व्यापक सुरक्षा के बीच जम्मू-कश्मीर के उप मुख्यमंत्री डॉ निर्मल कुमार सिंह ने यात्रियों को विदा किया। यात्रियों की सुरक्षा के लिए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवान यात्रा में साथ चल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *