एक साथ आग तीन घरों में लगी 50 लाख का माल जलकर खाक

सिवनी, परिवार के लोग अक्षय तृतीया पर रिस्तेदारी में शादी में गए हुए थे। उन्हें क्या पता था कि जब वे घर लौटेंगे तो उन्हें अपने-अपने आशियाने जलते हुए दिखेंगे। मामला गत रात्रि नौ बजे का है। जब सिवनी के निकट ग्राम खैरीटेक निवासी सनोडिय़ा परिवार के लोग वैवाहिक कार्यक्रम में गए हुए थे। चूंकि उनका मकान राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 पर है। इसलिए सामने से गुजर रहे लोगों ने देखा कि मकान में आग लग गई है। तो उन्होंने चिल्ला-चिल्ला कर गांव वालों को बताया। जैसे ही आग की खबर गांव वालों को लगी, तत्काल ही सिवनी नगरपालिका एवं पुलिस को सूचना दी गई और तत्काल ही पुलिस और फायरबिग्रेड का दल ने वहां पहुंच कर आग बुझाने की कोशिश की।
जिस घर में आग लगी थी। उसके मालिक श्याम सिंह सनोडिय़ा ने बताया कि उनकी बेटी महक, हर्षू एवं पत्नी बवीता तथा दामाद विनोद सनोडिय़ा और उनकी बेटी नीता सभी एक वैवाहिक कार्यक्रम में गए हुए थे। तभी उन्हें रात्रि में गांव वालों ने फोन करके बताया कि उनके घर में आग लग गई है।
इसी परिवार के एक सदस्य पप्पू जिसकी शादी होने वाली थी। और उसकी मां भागवती बाई सनोडिय़ा भी एक बाजू के मकान में रहते थे। इनके घर में भी आग लग गई। इसी तरह से तीसरे हेमराज सनोडिय़ा के मकान में भी आग लगी।
इस आगजनी की घटना में एक परिवार में घर पर रखा छह ट्राली गेंहू, घर के उपयोग के लिए रखा चावल, दो लाख के गहने एवं दो लाख रुपये से अधिक की घर-गृहस्थी का समान जिसमें बर्तन तक शामिल है। इस तरह से दस लाख एवं मकान छति दस लाख रुपये की हुई। इसी तरह से दूसरे मकान में भी विनोद, पप्पू रहते थे। जिसमें रखा हुआ, चार ट्राली गेंहू एवं दो ट्राली चावल सहित लगभग दस लाख रुपये के सामग्री जलकर खाक हो गई। इन परिवारों के साथ रहने वाली इनकी मां पांचू बाई एवं पूनिया बाई जो कि बाजू के पक्के मकान में रहती थी। उन्हें भी काफी देर बाद आग लगने की जानकारी प्राप्त हुई।
घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय विधायक दिनेश राय देर रात्रि में घटना स्थल पर पहुंचे। दूसरे दिन पूर्व विधायक नरेश दिवाकर एवं नीता पटेरिया ने भी जाकर पीड़ित जनों को आश्वासन दिलाया। इसी तारत य में किसान नेता हुकूम चंद सनोडिय़ा ने जिला प्रशासन से मांग की है कि इन आगजनी के शिकार हुए, किसानों को तत्काल सर्वे कर मुआवजा दिलवाया जाए। तथा आगामी दिनों में फसल के लिए नि:शुल्क बीज दिलवाया जाए। साथ ही किसान फसल बीमा योजना की राशि दिलवाए जाने के लिए संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए जाएं।
आगजनी की घटना के चलते आग की लपटें इतनी तेज थी कि घर में लगा हुआ सागौन की बेशकीमती कलाकृतियां एवं दरवाजे जलकर खाक हो गए। इसके साथ ही घर में रसोई के लिए रखा हुआ सिलेण्डर भी फटने के कारण करीब तीन किलोमीटर दूर तक आवाज सुनाई दी।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *