आत्महत्या नहीं, सुनंदा पुष्कर की हत्या हुई थी

नई दिल्ली,पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर के आत्महत्या मामले में नया मोड आ गया है। दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार कांग्रेस सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर ने खुदकुशी नहीं की थी। बल्कि उनकी हत्या की गई थी। सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले की जांच में शामिल एसडीएम और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह दावा किया है। मीडिया में मामला गरमाने के बाद दिल्ली पुलिस ने भी इस पर अपना पक्ष रखा है। दिल्ली पुलिस के सीपीआरओ दीपेंद्र पाठक ने कहा कि फिलहाल यह मामला जांच के दायरे में है। पुलिस अपनी रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल करेगी। इस मामले में कोई भी प्रतिक्रिया करने का यह उचित समय नहीं है। दिल्ली पुलिस प्रोफेशनल तरीके से अपना काम कर रही है। जांच रिपोर्ट को सही समय पर सामने लाया जाएगा।
ज्ञात हो कि सुनंदा मौत के मामले की प्रथम जांच रिपोर्ट तत्कालीन डीसीपी बीएस जयसवाल ने ही बनाई थी। बताया गया है कि इस रिपोर्ट में एसडीएम वसंत विहार आलोक शर्मा ने स्पष्ट लिखा था कि होटल लीला में घटनास्थल का जायजा लेने के बाद इसमें कोई दोराय नहीं है कि सुनंदा ने खुदकुशी नहीं की थी। यह भी बताना जरूरी है कि पहले पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी सुनंदा की मौत की वजह जहर बताई गई थी।
पोस्टमार्टम रिपोर्ट (पीएम) के मुताबिक, सुनंदा पुष्कर को एल्प्राजोलाम जहर का डोज दिया गया था। सुनंदा के शरीर पर मिले सभी जख्म जबरन दिए गए। यह भी हैरानी की बात है कि ये जख्म इंजेक्शन मार्क को छोड़कर मौत की वजह नहीं बन सकते और उनके शरीर पर ये जख्म हाथापाई के दौरान आए। इस पीएम रिपोर्ट में सुनंदा पुष्कर के शरीर पर मिले जख्मों का जिक्र करते हुए कहा गया है कि सुनंदा के शरीर पर इंजेक्शन लगाने और दांत से कांटने के निशान मिले। कुछ घाव ऐसे मिले जो उनकी मौत से 12 घंटे पहले से लेकर 4 दिन के दौरान दिए गए। उल्लेखनीय है कि चार साल पहले 17 जनवरी, 2014 को दिल्ली के लीला पैलेस होटल के एक कमरे में कांग्रेस सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर का शव संदिग्ध हालत में मिला था। यह अलग बात है कि सुनंदा की मौत के चार साल बीत जाने के बाद भी दिल्ली पुलिस अब तक इस मामले में किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *